नशा तस्करों विरूद्ध बड़ी कार्यवाही, दस दिनों में 485 गिरफतार , 387 केस दर्ज - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Tuesday, March 28, 2017

नशा तस्करों विरूद्ध बड़ी कार्यवाही, दस दिनों में 485 गिरफतार , 387 केस दर्ज

विभिंन जिलों में विशेष टीमों का गठन, राज्य भर में नशा छुडाऊ केन्द्र पुन: शुरू किये

चंडीगढ़
पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह की अध्यक्षता वाली सरकार द्वारा नशों विरूद्ध शुरू की मुहिम अधीन राज्य की विभिंन एंजेसियों ने एक बड़ी कार्यवाही करके 485 नशा कारोबारियों व तस्करों को गिरफतार किया और एनडीपीएस एक्ट तहत 387 मामले दर्ज किये है।
आज यहां मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि नशों को जड़ से खत्म करने के लिए प्रत्येक जिलें में एनटी नारोकटिक सैल  यूनिटों को बनाने के अतिरिक्त सीआईए के सहयोग एसएचओ स्तर की टीमें भी बनाई गई है ताकि चार सप्ताह में राज्य से नशों का सफाया किया जा सके। राज्य के विश्ेाष आपरेशन सैल भी इस मुहिम में शामिल है। जिसने राज्य भर से बड़ी मात्रा में नशे बरामद किये है। प्रवक्ता ने आगे बताया कि विभिंन पुलिस व खुफिया एंजेसियों द्वारा नशा विरोधी अभियान में सिविल प्रशासन द्वारा भी पूरा सहयोग दिया जा रहा है।
प्रवक्ता ने आगे बताया कि मुख्यमंत्री ने राज्य की विभिंन एंजेसियों को नारकोटिक कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) का डायरैक्टोरेट आफ रिवैन्यू इंटैलीजैंस (आरडीआई) और कस्टम विभाग जैसी केन्द्रीय एंजेसियों के साथ तालमेल करने के भी निर्देश दिये है ताकि सीमा पार से और भारत के अन्य हिस्सो से राज्य में नशों की सप्लाई व तस्करी को रोका जा सके।
मुख्यमंत्री के दिशा निर्देशों अधी एक विशेष टास्क फोर्स पहले ही बनाई जा चुकी है जिसको नशों विशेषकर चिटटे (हैरोईन,सिंथैटिक, फार्मासिटिकल  ड्रग) विरूद्ध विशेष अभियान किया जा सके।
प्रवक्ता ने आगे बताया कि 16 मार्च 2017 से लेकर 27 मार्च 2017 तक विशेष टीमों द्वारा विभिंन स्थानो पर छापा मारकर 3.945 किलो हैरोईन बरामद की है। जिसमें बीएसएफ द्वारा पकड़ी गई एक किलो हैरीईन भी शामिल है। यह सारी कार्यवाही नई सरकार के सत्ता संभालने के बाद अब तक दस दिनों में की गई है।
प्रवक्ता ने बताया कि इस समय दौरान पकड़े गये नशों में 622.555 किलो भुक्की,0.528 स्मैक, 2.22 किलो चरस, 24.39 किलो अफीम, 1.879 किलो भांग और 65.6 किलो गांजा शामिल है। विशेष टीमो ने 133 बोतले सिरप, 1075 टीके, 90993 कैपसूल/गोलियां बरामद की है। प्रवक्ता अनुसार इसके अतिरिक्त 11.224 किलो नशीला पाऊडर भी पकड़ा गया है। इस दौरान 7.25 किलो अफीम बरामद करने के अतिरिक्त बीएसएफ द्वारा सरहद पर एक किलो हैरोईन भी बरामद की गई है। प्रवक्ता अनुसार सबसे अधिक मामले जांलधर देहाती में दर्ज किये गये है जिनकी कुल संख्या 63 है।
प्रवक्ता अनुसार जांलधर पुलिस ने अपना हैल्पलाईन नम्बर शुरू किया हेै और लोगों को नशा तस्करों व सप्लाई संबंधी किसी भी प्रकार की सूचना देने की अपील की है। सभी पुलिस थानों को नशा तस्करों और उन लोगों की सूची बनाने के निर्देश दिये जिनके विरूद्ध पिछले दस वर्षो में दो से अधिक एफआरआईज दर्ज हुई है। इन लोगों पर निकट से नजर रखी जाएगी।

मुख्यमंत्री कार्यालय को जालंधर में अधिकृत दवाइयों की दुरूपयोग को रोकने के लिए छापे मारने के लिए पुलिस आयुक्त्त की मदद के लिए पक्के तौर पर एक ड्रग इंस्पेैक्टर लगाने की अपील की गई है।
सीनियर पुलिस अधिकारियों द्वारा इस मामले पर निजी तौर पर निगरानी रखी जा रही है और मुख्यमंत्री भी इस संबंध में रोज़ाना रिपोर्ट मांग रहे हैं। राज्य में नशों के खात्मे के लिए स्थापित की गई विशेष टॉस्क फोर्स मुख्यमंमत्री की सीधी निगरानी तहत कार्य कर रही है जिन्होंने विशेष टॉस्क फोर्स के मुखी ए डी जी पी श्री हरप्रीत सिद्धू को राज्य में नशों की अलामत से मुक्त करने के लिए आवश्यक कार्रवाई करने के लिए खुली छूट दी हुई है।
मुख्यमंत्री ने पुलिस को इस कारोबार के सूत्रधार काबू करने के लिए भी कठोर कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं।  यह पुलिस की कार्य-कुशलता नशों संबंधी विरोधी मुहिम की सफलता पर आधारित होगी। एन डी पी एस एक्ट की धारा 68 तहत और भारत सरकार के सफेमा (स््रस्नश्वरू्र) तहत नशों के तस्करों की जायदाद जब्त करने के आदेश लागू करने के लिए भी विशेष टीम को निर्देश दिए गए हेंै।
नशों के विरूद्ध लोगों को जागरूक करने के लिए स्कूलों- कालेजों में सेमिनार व शेैक्षणिक कार्यक्रम करवाने के अतिरिक्त नुक्कड़ नाटक तथा रोड शो, रैलियां भी की जा रही हैं। गत् सरकार द्वारा नकारा किए गए नशा छुड़ाऊ केन्द्रों को पुन: चलाया जा रहा है। नशा छुड़ाने व पुनर्वास सरगर्मियों के लिए व्यापक पहुंच अपनाई गई है।
राज्य में शिक्षा संस्थाएं, गैर-सरकारी संस्थाओं, यूथ क्लबों व नेहरू युवा केन्द्रों के साथ विभिन्न मीडिया मंचों पर भी नशा विरूद्ध प्रचार तथा जागरूक मुहिम आरंभ की गई है।
-----------

No comments:

Post a Comment