कैप्टन अमरिंदर ने जलघरों के कनेक्‍शन काटने से गहराई पानी की समस्‍या के विरूद्ध दी चेतावनी - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Saturday, March 04, 2017

कैप्टन अमरिंदर ने जलघरों के कनेक्‍शन काटने से गहराई पानी की समस्‍या के विरूद्ध दी चेतावनी

सप्लाई तुरंत दोबारा चालू करने की उठाई मांग, दोषी पंचायत व नगर काउंसिल के नेताओं के विरूद्ध कार्रवाई का किया वादा 
 
चंडीगढ़
 पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष कैप्टन अमरेन्द्र सिंह ने वाटर वक्र्स को जाने वाली पॉवर सप्लाई काटे जाने से पंजाब के सैंकड़ों गांवों में पैदा हुई पानी की समस्या पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए, बिजली के बिलों की अदायगी न करने के दोषी पंचायत सदस्यों व नगर काउंसिलों के प्रधानों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई किए जाने की मांग की है। 

शनिवार को यहां जारी एक बयान में, कैप्टन अमरेन्द्र ने कहा कि 650 अलग-अलग गांवों के लोगों, जिनके वाटर वक्र्स की बिजली काट दी गई है, को पंचायत व नगर काउंसिल के नेताओं की अपराधिक लापरवाही के चलते परेशान नहीं किया जा सकता है। उन्होंने वाटर वक्र्स की बिजली की सप्लाई तुरंत बहाल किए जाने की मांग करते हुए कहा कि जीवन के संविधानिक अधिकार के तहत स्वच्छ पेयजल पर लोगों का अधिकार है और उन्हें उससे वंचित नहीं किया सकता है। 
उन्होंने राज्य में कांग्रेस की सरकार बनने पर पंचायतों व नगर काउंसिलों के नेताओं के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने का वायदा करते हुए कहा कि बिलों की अदायगी न करने के चलते पैदा हुई यह समस्या, राज्य में बादल सरकार के कुशासन की एक अन्य उदाहरण है। उन्होंने कहा कि चाहे पी.एस.पी.सी.एल को बकाया बिलों की वसूली करने हेतु आवश्यक कदम उठाने का अधिकार है, लेकिन उसे बेकसूर गांव वालों को प्रताडि़त नहीं करने दिया जा सकता।
यहां तक कि कैप्टन अमरेन्द्र ने बीते सालों के दौरान हालातों को संभालने में पूरी तरह से लापरवाही बरतने वाली अथॉरिटीज पर भी बरसते हुए कहा कि मानसा व मुक्तसर जैसे कई प्रभावित क्षेत्रों का भूजल मानवीय उपभोग के लिए उपयुक्त नहीं है और ऐसे में यदि लोगों को तुरंत पानी की सप्लाई बहाल नहीं की गई, तो हालत हाथ से निकल सकते हैं। कैप्टन अमरेन्द्र ने कहा कि स्वच्छ पेयजल, भारतीय संविधान के जीवन के अधिकार में शामिल है और इससे लोगों को वंचित नहीं किया जा सकता है। इस दिशा में, किसी भी परिस्थिति में लोगों को आवश्यक वस्तुओं से वंचित नहीं किया जा सकता है। 
कांग्रेस के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि पी.एस.पी.सी.एल की कार्रवाई के चलते लोगों को लंबे वक्त तक पानी से वंचित रहने कारण और परेशान होना पड़ा, तो हालात खतरनाक स्थिति में पहुंच जाएंगे। इस क्रम में, कैप्टन अमरेन्द्र ने चेतावनी देते हुए कहा कि एस.वाई.एल विवाद के गंभीर मोड़ पर पहुंच जाने के साथ-साथ, यह मुद्दा पंजाब में पानी को लेकर भयानक तनाव पैदा कर सकता है। जिस पर, उन्होंने गांवों की तरफ बकाया बिजली के बिलों की समस्या का वैकल्पिक हल निकाले जाने की जरूरत पर बल दिया है।
उन्होंने दोहराया कि पानी की समस्या इससे पहले पंजाब में आतंकवाद की जड़ बनी थी और यह एक बार फिर से हिंसा को चिंगारी दे सकती है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद इस समस्या का हल उनकी सरकार की प्राथमिकता होगी। उन्होंने वायदा किया कि समस्या का पक्के तौर पर हल निकालने हुए, पंजाब के लोगों की पानी की समस्या के निपटारे हेतु एक व्यापक नीति बनाई जाएगी और पी.एस.पी.सी.एल की बकाया अदायगियों को सही दिशा में ले जाने के लिए हर मुमकिन कदम उठाया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि बिजली के बिलों की अदायगियों की रकम को दूसरे कार्यों में इस्तेमाल करने के लिए दोषी पाए जाने वालों को न्याय का सामना करवाया जाएगा।

No comments:

Post a Comment