पंजाब में बदलाखोरी की सियासत एवं टकराव के युग के अंत का आह्वान - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Thursday, March 23, 2017

पंजाब में बदलाखोरी की सियासत एवं टकराव के युग के अंत का आह्वान

मुख्यमंत्री  द्वारा कृषि ऋृण माफ करने संबंधी नीति आयोग को प्रधानमंत्री द्वारा जारी दिशा निर्देशों संबंधी रिपोर्टो का स्वागत 


चंडीगढ़, 23 मार्च:
कृषि ऋृण माफ करने संबंधी अपनी वचनबद्धता को दोहराते हुये पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने किसानों के कर्जे समाप्त करने संबंधी अनुमान लगाने तथा योजना तैयार करने संबंधी नीति आयोग को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा दिये दिशा निर्देशों संबंधी रिपोर्टो का स्वागत किया है। 
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि राज्य सरकार ने किसानों के कर्जे माफ करने के लिये पहले ही प्रक्रिया आरंभ कर दी है और उनको देश की संकट में घिरे किसानों के ऋृण माफ करने के लिये केंद्र सरकार द्वारा की जा रही कोशिश की हृदय से प्रसन्नता हुई। 
गत् बुधवार प्रधानमंत्री के पास कृषि ऋृण माफ करने का मुद्दा उठाने वाले मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनको दिल्ली में मुलाकात के दौरान श्री मोदी और केंद्रीय वित्त मंत्री श्री अरूण जेटली द्वारा भरपूर समर्थन मिला है। 
एक टीवी चैनल के साथ एक लंबे साक्षात्कार के दौरान कैप्टन अमरिंदर सिंह ने विभिन्न मुद्दों संबंधी अपने विचार व्यक्त किये जिनमें सरकार के आगे आने वाली चुनौतियों, राज्य मंत्रीमंडल के गठन एवं विस्तार तथा कांग्रेस पार्टी के सियासी भविष्य जैसे मुद्दे शामिल थे। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिद्धू के टीवी शौ और अपने मुख्यमंत्री के तौर पर मौजूदा कार्यकाल के बाद सेवा निवृति से संबंधित प्रशनों के भी जवाब दिये। उन्होंने पंजाब में आम आदमी पार्टी की कमजोर कारगुजारी संबंधी भी अपने विचार प्रस्तुत किये। 
अकालियों विरूद्ध किसी भी प्रकार की सियासी बदलाखौरी को रद्द करते हुये कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनकी मुख्य प्राथमिकता पंजाब का विकास है नाकि बदला खौरी के घटिया चक्र में लिप्त रहना। उन्होंने कहा कि वह टकराव के युग का संपूर्ण अंत करना चाहते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि शिअद-भाजपा सरकार ने सत्ता में आने के बाद कांग्रेस सरकार के सभी प्रौजेक्ट बंद कर दिये थे परंतु उनकी सरकार लोगों की भलाई के लिये चल रहे सभी प्रौजेक्टों को लगातार मदद देगी। 
पंजाब में कांग्रेस पार्टी की जीत की संभावनाओं संबंधी कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के व्यहवार संबंधी सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि वह राज्य विधान सभा के परिणामों से आखिरकार बहुत खुश हुये हैं। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि समय की कमी के कारण श्री राहुल गांधी पंजाब में अधिक रैलियां नही कर सके। 
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि टिकटों की बांट के मामले पर पार्टी हाईकमांड द्वारा उनको पूरा समर्थन मिला है। उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय पार्टियों के बढ़ रहे प्रभाव से निपटने के लिये क्षेत्रीय नेताओं को तैयार करने और उभारने की आवश्यकता है। 
मुख्यमंत्री ने एक और प्रशन के उत्तर में कहा कि पंजाब में मुख्यमंत्री का चेहरा ना होने का आम आदमी पार्टी को कीमत चुकानी पड़ी है। लोगों को संदेह था कि अरविंद केजरीवाल स्वयं मुख्यमंत्री बनना चाहता है। सोशल मीडिया पर भारी शौशे के बावजूद आम आदमी पार्टी जमीनी स्तर पर अपना अस्तित्व बनाने में नाकाम रही है जोकि चुनावों में उसकी हार का कारण बनी है। 
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि चाहे वह इस बात से सहमत नही है कि चुनावों में इलैक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीनों (ईवीएम) में समस्या हो सकती है परंतु इस पक्ष की समीक्षा अवश्य की जानी चाहिए कि विश्व के सबसे अधिक विकसित देश अपने चुनावों में ऐसी मशीनों का प्रयोग क्यों नही कर रहे। 
कैप्टन अमरिंदर सिंह ने राज्य की विधान सभा चुनावों के परिणामों को अकालियों विरूद्ध जनादेश और कांग्रेस कार्यकत्र्ताओं की कठोर मेहनत का निष्कर्ष बताते हुये कहा कि इसके लिये केंद्रीय हाई कमांड ने पूरा सहयोग दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह सबकी सांझी जीत है जिसको व्यक्ति विशेष से नही जोड़ा जा सकता। साथ ही उन्होंने कहा कि लोगों ने स्थिरता और अनुभव के पक्ष में मतदान किया है। 
मुख्यमंत्री ने शिरोमणि अकाली दल की सरकार के गत् 6 महीनों के सभी फैसलों का जायजा लेने और अकालियों द्वारा निर्दोष लोगों के विरूद्ध दर्ज किये झूठे केसों की जांच के लिये आयोग स्थापित करने हेतू अपनी सरकार की वचनबद्धता को दोहराया। उन्होंने चाहे भ्रष्टाचार के मामलों की जांच के लिये कमिशन की स्थापना को रद्द कर दिया पर स्पष्ट किया कि यदि इस संबंध में सरकार को कोई शिकायत प्राप्त होती है तो इसकी जांच की जायेगी। 
राज्य में नशों की समस्या का जिक्र करते हुये मुख्यमंत्री ने दृढता व्यक्त करते हुये कहा कि चार सप्ताह में नशों की बुराई का संपूर्ण खात्मा कर दिया जायेगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने अधिकारियों को हिदायत की है कि नशे के कारोबार से जुड़े माफिये को नकेल डाली जाये परंतु नशा करने वालों को कुछ ना कहा जाये जिनका ईलाज भी करवाया जायेगा। एक प्रशन के उत्तर में नशे के कारोबार को शह देने के लिये अकालियों को कसूरवार ठहराते हुये कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि यदि इस मामले में बिक्रम सिंह मजीठिया का नाम सामने आया कि उसको भी किसी अन्य व्यक्ति की तरह परिणामों का सामना करना पड़ेगा। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि नशों की समस्या से निपटने के लिये बनाई टास्क फोर्स को खुला हाथ दिया गया है कि जिस प्रकार  भी मुनासिब हो, उसी तरह मामले को निपटा जाये। उन्होंने चरस की घरेलू पैदावार की समस्या से निपटने के लिये राष्ट्रीय ड्रग नीति बनाने के लिये भी कहा। 
नई सरकार के सामने 1.7 लाख करोड़ रुपये का खेती ऋृण, राजस्व घाटा, औद्योगिक संकट, कृषि विविधता, माफिया और बेरोज़गारी जैसी बड़ी चुनौतियों का जिक्र करते हुये कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि उनकी सरकार ने इन समस्याओं से निपटने के लिये कई कदम उठाये हैं। उन्होंने बादल सरकार की शह से पैर पसारने वाले ट्रांसपोर्ट, केबल और टी वी माफिये को समाप्त करने का वायदा किया। मुख्यमंत्री ने कहा कि नौकरियों और निशुल्क समार्ट फोन देने के चुनाव वायदे भी पूरे किये जायेंगे। उन्होंने कहा कि सरकार ने अपनी पार्टी के 120 वायदे पूरे करने क ी प्रक्रि या पहले ही आरंभ कर दी है। 
अकाली सरकार की हलका इंचार्ज प्रणाली का जिक्र करते हुये मुख्यमंत्रीने कहा कि बादल सरकार ने इनका प्रयोग सिस्टम को अपने हाथ में लेने के लिये किया था परंतु उनकी सरकार सिस्टम को पुन: पटरी पर लायेगी। कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब को पुन: तरक्की की राह पर ले जाने के लिये उनकी सरकार के उद्यम को अफसरशाही के पूर्ण सहयोग के लिये उम्मीद रखते हैं। बादल सरकार द्वारा खड़े किये इस ढांचे को तोडऩे कीबात करते हुये कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा, ‘मैं अपने गत् कार्यकाल वाले सिस्टम में विशवास करता हूं और मैंने उस समय मुख्यमंत्री के तौर पर केवल तीन-चार बार जिला पुलिस मुखी से फोन पर बात की थी। ’
सतलुज-यमुना लिंक नहर के मुद्दे पर कैप्टन अमरिंदर सिंह ने उम्मीद व्यक्त करते हुये कहा कि सुप्रीम कोर्ट इस संबंधी फैसला लेने से पूर्व जमीनी हकीकतों को भी विचारेगी। 
एक और सवाल के जवाब में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पंजाब में प्रशांत किशोर की भूमिका की सराहना करते हुये कहा कि दूसरे राज्यों में पूरा समय ना मिलने के कारण वह बढिय़ा प्रस्तुति नही दे सके।

No comments:

Post a Comment