सेमीनारों व हस्ताक्षर अभियान तक सीमित प्रशासन एवं स्वास्थ्य विभाग

मलोट में नशे की ओवरडोज से युवक की मौत के बाद गिद्दड़बाहा में नशा मिलने से आहत युवा ने दी जान


श्री मुक्तसर साहिब

पंजाब के युवाओं के नशे से मौत का सिलसिला थम नहीं रहा। हालात यह हैं कि नशे की हकीकत ने उड़ता पंजाब में दिखाए हालातों को भी पीछे छोड़ दिया है। गिद्दड़बाहा में नशा करने के आदि एक 32 वर्षीय युवक ने फंदा लगाकर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। पुलिस ने 174 की कार्रवाई करते हुए रविवार को पोस्टमार्टम करवा शव वारिसों को सौंप दिया है। इससे पूर्व शनिवार को मलोट में एक युवक ने नशे की लत के कारण अपनी जान गंवा दी। जिले के गांव इनाखेड़ा के उक्त युवक की नशे की ओवरडोज के कारण मौत हो गई। वह मलोट के एक रेस्टोरेंट में नशे का इंजेक्शन ले रहा था और ओवरडोज के कारण वहां गिर गया। उसकी बाथरूम में ही मौत हो गई।

महज दो दिन में जहां दो युवकों की नशे के कारण जान चली गई वहीं इस तरह के गंभीर हालातों में भी प्रशासनिक व स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी सेमीनार तथा हस्ताक्षर अभियानों से ही पंजाब को नशा मुक्त बनाने की खोखली बातें करते नजर आते हैं।  गिद्दड़बाहा निवासी मृतक के पिता गुरचरण नाथ ने बताया कि उसका 32 वर्षीय पुत्र प्रेम कुमार बीते लंबे समय से नशे करने का आदि था। पहले तो नशा आसानी से मिलता रहा, लेकिन बीते समय से उसे नशा नहीं मिल रहा था। जिस कारण वह अकसर परेशान रहता था। इसी परेशानी के चलते ही उसने रविवार की सुबह अपने कमरे में लगे पंखे से फंदा लगाकर जीवन लीला समाप्त कर ली। काफी समय वह कमरे से बाहर नहीं आया तो उसे देखने के लिए वह कमरे में गया। जहां पर उसका शव पंखे से लटक रहा था। गिद्दड़बाहा थाने के जांच अधिकारी एएसआई महेंदर सिंह ने बताया कि उनकी ओर से मृतक के पिता के बयानों पर 174 के अधीन कार्रवाई की जा रही है। गौरतलब है कि शनिवार को मलोट के रेस्टोरेंट में नशे की ओवरडोज के कारण युवक की मौत हो गई थी। वह मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के गृह क्षेत्र में पड़ते गांव इनाखेड़ा का रहने वाला था। करीब 25 वर्षीय गुरविंदर सिंह मलोट के एक रेस्टोरेंट में आया था। वह रेस्टोंरेंट के बाथरूम में गया। बहुत देर तक वह बाथरूम से बाहर नहीं आया तथा काफी समय तक जब दरवाजा नहीं खुला तो लोगों ने होटल प्रबंधकों से बात की।  रेस्टोरेंट के कर्मचारी भी वहां पहुंचे और बाथरूम का दरवाजा  खटखटाया, लेकिन वह नहीं खुला। इसके बाद पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने मौके पर पहुंचकर दरवाजा तोड़ा। अंदर गुरविंदर सिंह फर्श पर गिरा पड़ा था और उसकी मौत हो गई थी। शव के पास इंजेक्शन और नशे का सामान पड़ा था। थाना सिटी प्रभारी जतिंदर सिंह का कहना है कि प्राथमिक जांच से यही लग रहा है कि नशे की ओवरडोज के कारण युवक की मौत हुई है। शव पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। युवक के परिजनों के अनुसार गुरविंदर नशे का आदी था। उस पर नशा तस्करी का केस भी दर्ज था और वह कुछ दिन पहले ही जमानत पर छूटा था।



Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.