सूबे में शिक्षा व्यवस्था को दिल्ली सरकार की तर्ज पर फिर से पुनर्जिवीत किया जाए

चंडीगड़, 
     स्कूलों में दाखिला प्रीक्रिया शुरू होने पर और प्राइवेट स्कूलों द्वारा विद्यार्थियों और उनका माता पिता की लूट का गंभीर नोटिस लेते हुए आम आदमी पार्टी के सीनियर नेता और विधान सभा में विरोधी पक्ष के नेता एडवोकेट एच.एस. फूलका ने मंगलवार को कहा कि सरकार को इस सम्बन्धित तुरंत कदम उठाने चाहिएं। उन्होंने कहा कि स्कूलों की फीस, फिर दाखिला फीस और किताबें खरीदने के मामले में प्राइवेट स्कूलों की मनमानी को रोकना चाहिए। 

    दिल्ली में शिक्षा व्यवस्था संबंधी फूलका ने कहा कि केजरीवाल सरकार ने प्राइवेट स्कूलों को फीसें और दाखिला सम्बन्धित हिदायतें जारी की थी। जिसके बहुत सार्थक और अच्छे नतीजे आए हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब में भी शिक्षा के व्यपारीकरण को नकेल डालनी चाहिए और सरकारी स्कूलों को दिए जाने वाले फंड तुरंत जारी करके उनको प्राइवेट स्कूलों के बराबर लाया जाना चाहिए।
    मौजूदा सरकार द्वारा पिछली सरकार की तरफ से शुरू किये गए कई प्रोजेक्टों को बंद करने सम्बन्धित की गई हिदायतों पर बोलते फूलका ने कहा कि ऐसा करने से आम लोगों को मुशिकलों का सामना करना पड़ेगा। इस लिए इन प्रोजेक्टों की फिर से जांच करके ही उस पर कोई फैसला लिया जाना चाहिए।
    फूलका ने कहा कि माननीय हाईकोर्ट द्वारा अभी जारी किये आदेश अनुसार लोगों के कामों के लिए फंड सीधे ग्राम पंचायतों को भेजने चाहिए। इस के साथ अफसरशाही द्वारा पैदा की जाने वाली अटकलों से बचा जा सकता है और सरकार द्वारा जारी की राशि सीधी पंचायतों के पास पहुंचेगी। जिससे लोक भलाई कार्य किये जा सकेंगे।   

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.