Type Here to Get Search Results !

मां के दूध का कर्ज चुकाने का समय आया : खुदा बख्‍श

युवा गायक खुदा बख्‍श बोले, मां को नहीं करना पड़ेगा लोगों के  घरों में काम

गांव बादल के खुदा बख्‍श पहुंचे 'इंडियन आइडल' के टॉप-4 में

खुदा बख्‍श के फैन कर रहे जीत की दुआएं

खुदा बख्‍श की गायकी की मुरीद हुईं कंगना, आलिया, अनुष्का व शिल्पा भी

जज अनु मलिक, सोनू निगम और फराह खान पहले ही हैं खुदा बख्‍श के फैन

किस्मत के खेल न्यारे हैं। किस्मत कब चमक जाए, इसके बारे में कोई कुछ नहीं कह सकता। कुछ माह पहले तक पूर्व मुख्‍यमंत्री प्रकाश सिंह बादल के पैतृक गांव बादल का अनजाना शख्‍श खुदा बख्‍श आज पूरे देश के लिए जाना-पहचाना चेहरा बन चुका है। 
खुदा बख्‍श की किस्मत ने ऐसा पलटा मारा कि अब वो अपनी गायकी के दम पर देश के  लाखों-करोड़ों युवाओं के लिए प्रेरणास्त्रोत बन गया है। कभी गांव बादल की गलियों में खाक छान रहा यह युवा गायक आज देश भर की पसंदीदा आवाज बन चुका है।  सोनी टीवी चैनल के लोकप्रिय सिंगिंग शो 'इंडियन आइडल' ने खुदा बख्‍श को यकायक ही फर्श से अर्श तक पहुंचा दिया है। शो के  जज अनु मलिक, सोनू निगम, फराह खान तो खुदा बख्‍श के कायल हुए ही हैं, वहीं बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना राणौट, आलिया भट्ट, अनुष्का शर्मा, शिल्पा शैट्टी, अदाकार गोविंदा, सैफ अली खान, शाहिद कपूर समेत अनेकों अदाकार भी खुदा बख्‍श की गायकी के मुरीद हो गए हैं। खुदा बख्‍श अपनी सुरीली आवाज के दम पर शो में टॉप-4 पर पहुंच चुके हैं। प्रदेश से पहली बार शो का कोई प्रतिभागी इस मुकाम तक पहुंचने में कामयाब हो पाया है।                     


शो को लेकर उत्साहित गांव बादल के 21 वर्षीय युवा गायक खुदा बख्‍श ने कहा कि उन्हें पूरी उम्‍मीद है कि वह शो जीतेंगे। अगर न भी जीत सके तो भी शो के टॉप-4 तक पहुंचना उनके लिए बहुत बड़ी बात है, क्योंकि इस मुकाम पर पहुंचने वाले गायक को बॉलीवुड में काम तो मिलना आसान हो ही जाता है। शो ने मेरे लिए प्ले बैंक सिंगर के तौर पर मुंबई आने के रास्ते बना दिए हैं। वर्ना उसने तो कभी ख्‍वाब में भी इतनी कम उम्र में इतनी शोहरत व कामयाबी हासिल करने की न सोची थी। खुदा बख्‍श ने बताया कि उसकी मां ने लोगों के घरों में काम करके उसका व बहनों का लालन-पालन किया है। अब मां के दूध का कर्ज उतारने का समय आ गया है। वह इतने कामयाब तो हो ही गए हैं कि अब उनकी मां को लोगों के घरों में काम नहीं करना पड़ेगा। अब वह अपनी मां के सभी सपनों को पूरा करेंगे। खुदा बख्‍श बताते हैं कि उनके पिता भी गायक थे। 
परिवार में गायकी का माहौल तो बचपन से ही था, मगर सही प्लेटफॉर्म नहीं मिल पाने के कारण हालात बुरे थे। वह हमेशा अपने हाथों की लकीरों को देखकर रोते थे कि उनके  हाथों की लकीरों में शायद सुख नहीं है। मगर अब इस मंच के चलते हाथों की लकीरें बदल गई हैं। खुदा बख्‍श ने कहा कि कभी वह अपने परिवार का गुजारा करने के  लिए छोटी-मोटी नौकरी की तलाश करते फिरते थे, मगर आज उन्हें खुदा ने सारे जहान की खुशियां ही दे दी हैं। खुदा भी शायद यही चाहते हैं कि खुदा बख्‍श गायन के क्षेत्र में आगे बढ़े। उधर, खुदा बख्‍श के शो में मुक्तसर का नाम रोशन करने पर जहां शहरवासी गौरवांगित महसूस कर रहे हैं, वहीं उनके पैतृक गांव बादल में लोग खुदा बख्‍श की जीत की दुआएं कर रहे हैं। 

प्रस्तुति : जगदीश जोशी, मुक्तसर



Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.