मानसा

रात को हुई हलकी बूंदाबांदी के बाद चली तेज हवा के कारण कई किसानों की गेहूं की फसल गिर कर धरती पर बिछ गई है। गेहूं की फसल बिछ जाने के कारण मुरझाऐ चेहरों के साथ माखा चहलां के किसान गुरप्रीत सिंह, जोगिन्द्र सिंह, कमलजीत सिंह, इकबाल सिंह, हरभजन सिंह रला व बलौर सिंह रल्ला ने बताया कि चाहे बारिश अधिक नहीं हुई लेकिन तेज हवा के कारण जो गेहूं की फसल गिर गई है उससे पैदावार घटने से इन्कार नहीं किया जा सकता।
 क्षेत्र के गांवों में चाहे बहुत भारी क्षति की खबर नहीं है लेकिन पानी लगीं फसलों को रात के समय चली तेज हवा का नुकसान हुआ है। किसानों का कहना है सोशल मीडीया के बताए अनुसार यदि तेज बारिश, तूफान या गढ़ेमारी होती है तो बड़े स्तर पर नुकसान होने का अंदेशा है। कई किसानों ने सोशल मीडीए द्वारा दी जा रही उक्त चेतावनी को देखते गेहूं की फसल को पानी भी नहीं लगाया जा रहा।
तस्वीर - गाँव माखा चहलें में तेज़ हवा के साथ बिछी गेहूँ की फ़सल। 

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.