अकाली कांग्रेसियों के बीच फसी फक्कर बाबा दामू शाह प्रबंधक कमेटी, मामला गर्माया, हालात तनावपूर्ण - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Tuesday, April 04, 2017

अकाली कांग्रेसियों के बीच फसी फक्कर बाबा दामू शाह प्रबंधक कमेटी, मामला गर्माया, हालात तनावपूर्ण

सियासी दखल : अकाली दल का कब्जा तोडऩे के लिए सत्‍ताधारी कांग्रेस पक्ष के लोगों ने ठोका ताला

सालाना करोड़ों की आमदन से विकास एवं मॉडल गांव के रुप में हुआ विकसित

मोगा।   
जांच करने पहुंची पुलिस तथा मौजूद तहसीलदार धर्मकोट 
मोगा-अमृतसर राष्ट्रीय राज्य मार्ग गांव लोहारा में पीर फक्कर दामू शाह की मजार की प्रबंधक कमेटी पर अकाली दल के कब्जे को तोडऩे को लेकर टकराव की स्ििथति बनी हुई है। हाकम पक्ष से संबंधित एक गुट ने अपनी प्रबंधकीय कमेटी बनाकर दफ्तर को ताला लगा दिया। इस कमेटी पर काबिज गुट के खिलाफ ताला तोडऩे आदि के  आरोपों तहत थाना कोट इसे खां पुलिस को शिकायत दी गई है। मामले की जांच कर रहे एएसआई गुरपाल सिंह ने शिकायत की पुष्टि करते हुए कहा कि मामले की जांच-पड़ताल में वह कानूनी पक्ष से विचार कर रह हैं। जानकारी अनुसार पीर फक्कर बाबा दामू शाह दरगाह प्रबंधक कमेटी पर अकाली पक्ष के लोगों का कब्जा है। पंजाब में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद इस पार्टी से जुड़े गुट ने प्रबंधक कमेटी के दफ्तर को ताला लगा दिया। इसके बाद काबिज गुट ने यह ताला तोड़ दिया तो दोनों पक्षों में टकराव पैदा हो गया। इस दौरान दोनों पक्षों ने दफ्तर पर अपने ताले लगा दिए। इस घटना की सूचना मिलते ही तहसीलदार धर्मकोट व थाना कोट इसे खां पुलिस पहुंची और हालात पर काबू किया। गौरतलब है कि पीर फक्कर बाबा दामू शाह की मजार पर वीरवार के दिन माथा टेकने के लिए श्रद्धालुओं की लाइनें कई घंटे लगी रहती हैं। भीड़ को काबू करने के लिए सुरक्षा मुलाजिम तैनात किए जाते हैं। यहां हर वर्ष भारी जोड़ मेले पर देश-विदेशों में से लाखों श्रद्धालु पहुंचते हैं। प्रबंधक कमेटी के पूर्व अध्यक्ष चमकौर सिंह ने बताया कि वह 2013 तक इस कमेटी के अध्यक्ष थे तो उस समय हर महीने तकरीबन 25 से 27 लाख रुपये की आमदन होती थी। इस आमदन से गांव के विकास पर करोड़ों रुपये खर्च किए जा चुके हैं। गांव में सीवरेज सिस्टम, स्कूल इमारत, खेल स्टेडियम, प्राइमरी स्कूल के लिए बस, गांव के संयुक्त कामों के लिए खेती औजार समेत ट्रैक्टर व अन्य गाडिय़ों की खरीद की गई है। सुंदर फुव्वारे, पार्क के अलावा गांवों की गलियों, नालियों व गांव के सौंदर्यीकरण कर आकर्षक बनाया गया है। विशेष श्राइन बोर्ड, फ्लैक्स बोर्ड, छायादार पौधे व अन्य समाज भलाई कार्यों पर करोड़ों खर्च किए गए हैं। इसके बाद इस मजार की प्रबंधक कमेटी के कामकाज पर सियासी दखलअंदाजी शुरु हो गई और दो गुट बन गए।

No comments:

Post a Comment