विशेष सत्र पर आया खर्च "आप" से वसूला जाए: सिरसा - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Wednesday, May 10, 2017

विशेष सत्र पर आया खर्च "आप" से वसूला जाए: सिरसा

मनजिंदर सिंह सिरसा ने लेफ्ट. गवर्नर को लिखा पत्र, विशेष सत्र "आप" की राजनीतिक गतिविधि थी

"आप"  द्वारा संविधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग तथा इनके खिलाफ कुप्रचार भारतीय लोकतंत्र के लिए नुकसानदायक

नई दिल्ली, 
  भारतीय जनता पार्टी के राजौरी गार्डन क्षेत्र से विधायक मनजिंदर सिंह  सिरसा ने आज दिल्ली के लैफ्ट. गर्वनर  अनिल बैजल को अपील की कि कल दिल्ली विधानसभा के विशेष सत्र पर आए खर्च की राशि आम आदमी पार्टी (आप) से वसूल की जाए, क्योंकि यह सत्र "आप" द्वारा सार्वजनिक खजाने की कीमत पर अपने राजनीतिक एजैंडे को आगे चलाने के लिए संविधानिक संस्था के दुरुप्रयोग की कार्रवाई के अलावा और कुछ नहीं था।
लैफ्ट गवर्नर को लिखे पत्र में मनजिंदर सिरसा ने हैरानी जाहिर की कि विशेष इजलास बुलाकर इस मंच का दुरुपयोग इलैक्ट्रोनिक वोङ्क्षटग मशीनों  (ईवीएम) से छेड़छाड़ के प्रदर्शन के लिए सिर्फ पार्टी के कनवीनर तथा दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द  केजरीवाल की लालसा को संतुष्ट करने के लिए तथा उनकी लगातार खत्म होती जा रही इमेज को बचाने के लिए किया गया। उन्होंने कहा कि और हैरानी वाला तथ्य यह है कि आप के विधानसभा में ६६ मैंबर हैं, तो फिर यह कार्रवाई एक मंच के प्लेटफार्म पर करने की क्या जरूरत पड़ गई थी। उन्होंने सवाल किया कि यदि "आप" अपनी पार्टी के नेताओं को यह दिखाना चाहती थी तो फिर यह शो पार्टी के कार्यालय में ही रखा जा सकता था। उन्होंने कहा कि यदि यह शो मीडिया के लिए था तो फिर यह किसी अन्य सार्वजनिक जगह पर रखा जा सकता था। उन्होंने कहा कि प्रोटो टाइप ईवीएम से छेड़छाड़ दिखाने के लिए विशेष सत्र बुलाकर "आप" ने संविधानिक संस्थाओं के दुरुपयोग की एक और मिसाल पेश की है।

श्री सिरसा ने और कहा कि विशेष सत्र बुलाने पर मोटी राशि खर्च हुई है, जबकि इस सत्र की कोई जरूरत नहीं थी। उन्होंने कहा कि देश के संविधान तहत यह संस्थाएं इनके इलाकों में लोगों की भलाई के लिए जरूरी वैधानिक कामकाज करने के लिए स्थापित की गई हैं तथा मीटिंग बुलाने के लिए यह मूल आधार होना चाहिए। उन्होंने अफसोस जाहिर किया कि विधानसभा में दिल्ली के लोगों को पेश आ रही मुश्किलों जिनमें पीने वाले पानी की कमी, दिल्ली के अस्पतालों में बुनियादी सुविधाओं की कमी तथा सडक़ पर ट्रैफिक की गंभीर समस्याओं जैसे मुद्दे विचार करने की बजाए केजरीवाल सरकार ने सदन में एक सियासी गतिविधि करवाकर सारे संविधानिक ढांचे का मजाक उड़ाने का प्रयत्न किया है। उन्होंने कहा कि ऐसे गैर संविधानिक तथा गैर जरूरी सत्र पर आए खर्च की राशि आप से वसूली जानी चाहिए। उन्होंने लेफ्टीनेंट गवर्नर को यह भी याद करवाया कि इस पार्टी को पहले भी सार्वजनिक पैसे के दुरुपयोग का दोषी करार दिया जा चुका है, जिसके द्वारा जनता के पैसे दिल्ली के बाहर विज्ञापन देकर आप को प्रोमोट किया गया तथा गतिविधि पर ९७ करोड़ रुपए आप से वसूल किए जाने के आदेश उन्होंने पहले ही दिए थे।

भाजपा के नेता ने कहा कि यह बहुत ही गलत बात है कि आप ने ना सिर्फ दिल्ली विधानसभा के मंच का दुरुपयोग किया, बल्कि यह एक अन्य संविधानिक संस्था भारतीय चुनाव आयोग (ईसीआई) को भी निशाना बना रही है तथा उसके द्वारा संविधान में दी जिम्मेदारी अनुसार देश भर में चुनाव करवाने की प्रक्रिया पर ही सवाल उठा रही है। उन्होंने कहा कि यह अभी स्पष्ट नहीं कि यह पार्टी क्यों तथा किसके इशारे पर ऐसा एजैंडा लेकर काम कर रही है, पर इसके काम करने के तरीके से सारी दुनिया में देश की बदनामी हुई है, क्योंकि दुनिया में कहीं भी ऐसी उदाहरण नहीं मिलती कि एक राजनीतिक पार्टी चुनाव करवाने वाली संस्था पर ही अंगुली उठाए।
उन्होंने लेफ्टीनेंट गर्वनर को अपील की कि वह ना सिर्फ कल हुए दिल्ली विधानसभा के सत्र पर आए खर्च की राशि इनसे वसूले जाने के आदेश जारी करें, बल्कि केजरीवाल सरकार को सख्त हिदायत भी करें कि वह ऐसी गतिविधियों से गुरेज करे, जिससे देश के लोकतंत्रीय स्वरूप का नुकसान होता हो, वह भी तब जब यह गतिविधियां सरकारी खजाने के सिर पर चलाई जा रही हों।

No comments:

Post a Comment