लंच टाइम में हथियारबंद लुटेरों ने डाला एसबीआई में डाका - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Wednesday, May 03, 2017

लंच टाइम में हथियारबंद लुटेरों ने डाला एसबीआई में डाका



गांव सरावां बोदला की शाखा से मोटरसाइकिल पर आए छह लुटरों ने लूट दस लाख 27 हजार
 
मलोट (श्री मुक्तसर साहिब)
राजपुरा में हुई कैश वैन की लूट को अंजाम दिए जाने के मामले में पुलिस अभी सुराग ढूंढ ही रही थी कि घटना के दूसरे ही दिन पंजाब पुलिस को मुक्तसर जिले के गांव सरावां बोदला में स्थित भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) की शाखा लूट को अंजाम देकर लुटेरों ने नई चुनौती दे डाली। बैंक के लंच टाइम में दिन दिहाड़े तीन मोटरसाइकिलों पर आए छह हथियारबंद लुटेरों ने डाका डालते हुए दस लाख 27 हजार रुपये लूटने के अलावा सोना भी लूट लिया, लेकिन फिलहाल लूटे गए सोने की कुल कीमत का अभी अंदाजा नहीं लग पाया है।
 जानकारी के  अनुसार गांव सरावां बोदला स्थित एसबीआई की शाखा में करीब पौने तीन बजे काले रंग के तीन मोटरसाइकिलों पर छह लुटेरे आए। लुटेरों के पास तीन हथियार बताए जाते हैं।

"> मौके पर दो कर्मचारी व एक चपरासी के अलावा बैंक के दो उपभोक्ता भी मौजूद थे। लुटेरों ने आते ही हथियारों के दम पर सभी को कब्जे में कर कर्मचारियों से बैंक क ी सैफ की चाबियां ले ली। लुटेरे दस लाख 27 हजार रुपये व सोना उड़ा ले गए। साथ ही कर्मचारियों के मोबाइल फोन व बैंक में लगे सीसीटीवी कैमरे की डीवीआर भी साथ ले गए। लूट की सूचना मिलते ही थाना कबरवाला के एसएचओ बलकार सिंह पुलिस पार्टी समेत मौके पर पहुंच गए। कुछ ही देर में डीआईजी बठिंडा आशीष चौधरी, एसएसपी सुशील कुमार, एसपी भागीरथ मीना, डीएसपी दीपक पारिक, मलोट के एसडीएम विशेष सारंगल समेत अन्य अधिकारी व पुलिस कर्मचारी भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस ने मौक पर पहुंचकर जांच शुरु कर दी। फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट को बुलवाकर लुटेरों के हाथों के निशान लिए जा रहे थे। पुलिस ने लुटेरों की तलाश में हरियाणा व पंजाब के सरहदी क्षेत्रों की पुलिस को भी अलर्ट करते हुए सूचित कर दिया। उधर, बैंक मैनेजर अविश कंबोज से जब इस बारे में बात की गई तो उन्होंने कहा कि वह इस बारे में कुछ नहीं बता सकते। वह तो पहले से ही बीपी के मरीज हैं।

No comments:

Post a Comment