ई गवर्नैंस प्रोजैक्ट बदलेगा शहरियों का जीवन - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Wednesday, May 10, 2017

ई गवर्नैंस प्रोजैक्ट बदलेगा शहरियों का जीवन

शहरी स्थानीय ईकाईयों का तीसरे पक्ष द्वारा तकनीकी व वित्तीय आडिट होगा-नवजोत सिंह सिद्धू

 भ्रष्टाचार से मुक्त सेवांए देने और अनियमितताओं को सामने लाने के प्रति दिखाई  दृढ़ता

 आडिट व ई गर्वनैंस प्रोजैक्टों संबधी स्थानीय सरकार मंत्री द्वारा देश की  प्रसिद्ध 24 कंपनियों के प्रतिनिधियों के साथ मुलाकात

  मैराथल चली बैठक दौरान आरएफपी भेजने से पहले कंपनियों के सुझावों व शंकाओं संबधी किया विचार


चंडीगढ़,10 मई:

शहर वासियों को घर बैठे प्रशासनिक सेवाएं देने के लिए ई गवर्नैस प्रोजैक्टों को सफलतापूर्वक लागू करने और स्थानीय सरकारों को भ्रष्टाचार से मुक्त करने के लिए सभी ईकाईयों का तकनीकी व वित्तीय आडिट करवाने के उदेश्य से आज स्थानीय सरकार मंत्री श्री नवजोत सिंह सिद्धू ने इन क्षेत्रों  की अग्रणीय 24 कपंनियों के  प्रतिनिधियों के  साथ बैठके की। यहां सैक्टर 35 स्थित स्थानीय सरकार भवन में दोनों प्रोजेैक्टों संबंधी की विभिंन बैठकों दौरान श्री सिद्धू ने कहा कि मु यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह के दिशा निर्देश तहत आडिट व ई गवर्र्नैस के प्रोजैक्ट लागू किये जा रहे है उन्होने कहा कि इस संबध में मु यमंत्री जी के साथ पहले ही विस्तारपूर्वक चर्चा हो चुकी है और मु यमंत्री ने अपनी स्वीकृति दे दी है।

उन्होने कहा कि तजवीज के लिए आवेदन (आरएफपी)मांगने से पहले वह समूह कंपनियों से सुझाव और इन प्रोजेैक्टों को लागू करने के लिए शंकाओं के बारे में पूछना चाहते है ताकि इन प्रोजैक्टों को वास्तव में अमलीजामा पहचाना जा सके। बैठक दौरान विभाग के सलाहकार डा. अमर सिंह, अतिरिक्त मु य सचिव श्री सतीश चंद्रा, सचिव श्री केएम बालामुरगन, डायरैक्टर श्री केके यादव, जनरल मैनेजर प्रोजैक्ट श्री वीपी सिंह भी उपस्थित थे।

         श्री सिद्धू ने कहा कि पिछले समय दौरान शहरों में स्थानीय सरकार द्वारा किये कार्यो का कोई आडिट नही हुआ उन्होने कहा कि शहरियों को स्वच्छ व भ्रष्टाचार रहित सेवाएं देने के लिए स्थानीय सरकारों को जि मेवार व जवाबदेह बनना पड़ेगा और पारदर्शिता से सारे कार्य करने होगें। जिसके लिए तीसरे पक्ष द्वारा सभी स्थानीय सरकारों को तकनीकी व वित्तीय आडिट करवाना अनिवार्य है। उन्होने कहा कि यह आडिट जहां पिछले समय में किये कार्यो का होगा वही मौजूदा समय में भी किये जाने वाले कार्यो का होगा। उन्होने समूह कंपनियों के प्रतिनिधियों को कहा कि आडिट करवाने का उदेश्य अकेला अनियमितताओं को सामने ही नही लाना बल्कि ऐसा सिस्टम स्थापित करना है ताकि इन अनियमितताओं को रोकने के लिए इन के हल और चैक भी रखे जाए।

         उन्होने कहा कि यह कार्य निश्चित समय में पूरा करना अनिवार्य होगा और पड़ाव अनुसार सभी शहरी ईकाईयों को इसके घेरे में लाया जाएगा। पहले पड़ाव में पांच बड़े नगर निगमों का तकनीकी व वित्तीय आडिट किया जाएगा।

उन्होने कहा कि प्रत्येक आडिट के लिए तीन या चार महीने के समय निश्चित किया जाएगा।

         ई गवर्नैस  के प्रोजैक्ट को लागू करने संबधी बैठक को संबोधन करते हुये स्थानीय सरकार मंत्री श्री सिद्धू ने कहा कि पिछले समय दौरान शहरियों को ई गवर्नैंस सेवांए देने के बारे में बड़े दावे किये गये पंरतु वास्तव में आज भी शहर वासी नक्षे पास करवाने, जन्म -मृत्यु प्रमाण पत्र हासिल करने, ईमारतों के लिए स्वीकृतियां लेने आदि जैसी प्रारभिंक सेवांए के लिए परेशान हो रहे है जिससे भ्रष्टाचार को प्रोत्साहन मिल रहा है। ई गवर्नैंस के प्रोजैक्ट को लागू करने संबधी बैठक को संबोधन करते हुये स्थानीय सरकार मंत्री श्री सिद्धू ने कहा कि शहर वासी आज भी नक्षे पास करवाने के लिए परेशान होते हेै जोकि सबसे अधिक भ्रष्टाचार की जड़ है। उन्होने कहा कि वह ई गवर्नैंस का ऐसा सिस्टम लागू करना चाहते है जिसमें थोड़े समय और ल बे समय में कार्यो को पूरा करना है। उन्होने कहा कि जो सेवाएं शहर वासियों को शीघ्र घर बैठे उपलब्ध करवाई जानी चाहिए उनको शीघ्र लागू किया जाए। उन्होने कहा कि सभी सेवाएं इकटठी शुरू करने में होती देरी को कम करने के लिए पड़ाव अनुसार सेवांए दी जाए ताकि ल बे समय से ई गवर्नैंस सेवाएं लेने से वंचित शहर वासी इन सेवाओं को शीघ्र हासिल कर सके। उन्होने कहा कि पिछले समय में सरकार द्वारा इस प्रोजैक्ट को लागू करने में नेक नियत नही दिखाई गई। जिस कारण कई साल पहले शुरू हुये इस प्रोजैक्ट का हकीकी रूप में शहरियों को कोई लाभ नही मिला। उन्होने कहा कि समस्त पंजाब में  एक समान नीति लागू की जाएगी और किसी के साथ भी कोई भेदभाव या रियायत दी जाएगी।

        
श्री सिद्धू ने सभी कंपनियों को ुाला समय देते हुये आरएफपी बनाने से पहले सुझाव और शंकाओं के बारे में पूछा उन्होने कहा कि पिछले समय दौरान चार बार आरएफपी असफल हो गई और दो बार तो कोई कंपनी भी नही आई जिसका मु य कारण इन प्रोजैक्टों को लागू करने में नेक नियत से कार्य नही हुआ और आरएफपी अस्पष्ट और अधूरा था उन्होने कहा कि इस बार वह इन प्रेाजैक्टों को वास्तव में लागू करना चाहते है जिस के लिए देश भर में इन क्षेत्रों की अग्रणीय कंपनियों को आरएफपी भेजने से पहले विचार करने को खुला निमंत्रण दिया गया उन्होने सभी कंपनियों को निमंत्रण दिया कि गुणवत्ता से कोई समझौता नही करेगें ओैर सही कार्य करने वाली कंपनियों को उत्साहित किया जाएगा।
         बैठक दौरान कंपनियों को प्रतिनिधियों द्वारा पिछले समय में आई समस्याएं और भविष्य में आने वाली संभावित मुश्किलों के बारे में बताते हुये कुछ शंकाए जाहिर की जिस पर श्री सिद्धू ने मौके पर ही उपस्थित विभाग के अधिकारियों को यह नुकते ध्यान में रखने के लिए कहा। श्री सिद्धू ने समूह कंपनियों से ई मेल पते द्वारा लिखित सुझाव भी मांग और कहा कि आरएफपी भेजने से पहले अगले सप्ताह सभी के साथ एक बार फिर बैठक की जाएगी। उन्होने कहा कि एक बार यह प्रोजैक्ट शुरू होने के बाद इनको लागू करने में देरी को सहन नही किया जाएगा इसी लिए इस संबधी पहले ही सभी नुकतों पर विचार किया जा रहा है।

No comments:

Post a Comment