श्री मुक्तसर साहिब में आयोजित सीआईआई इनोवेटिव फार्मर मीट को मिली अभूतपूर्व सफलता - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Tuesday, May 09, 2017

श्री मुक्तसर साहिब में आयोजित सीआईआई इनोवेटिव फार्मर मीट को मिली अभूतपूर्व सफलता

 पर्यावरण को आधुनिक खेती के जरिए बचाओ: ए डी सी कुलवंत सिंह


श्री मुक्तसर साहिब
भारतीय उद्योग परिसंघ ने मुख़्तसर के ग्रीन टी रिसोर्ट में तीसरे इनोवेटिव फार्मर मीट का आयोजन किया यह। यह आयोजन मॉडर्न खेती तकनीकों को प्रमोट करने के कैंपेन के तहत किया गया। इस अवसर पर 'प्रेसिजन व कंज़र्वेशन एग्रीकल्चर द्वारा प्राकृतिक संसाधनों के प्रबंध के माध्यम से स्थायी कृषि' विषय पर कृषि उत्पादों की एक प्रदर्शनी भी आयोजित की गई।
सीआईआई द्वारा यह अभियान 4 मई से 16 जून 2017 तक पंजाब, हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश में कृषि और किसान कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार और मेहराम प्रकाशन के सहयोग से आयोजित किया जा रहा है। इस अवसर पर क्षेत्र के किसानों को संबोधित करते हुए श्री मुक्तसर साहिब के अतिरिक्त उप आयुक्त कुलवंत सिंह ने उनको आधुनिक कृषि को अपनाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि यह पर्यावरण की रक्षा के साथ ही भविष्य की पीढ़ियों को प्रदूषण से इसे बचाने के लिए जरूरी है। "बढ़ता प्रदूषण इस ग्रह पर प्रत्येक जीवन के लिए खतरा बन रहा है, हम पर्यावरण की कीमत पर कृषि से लाभ कमा नहीं सकते। " विविधीकरण के महत्व को उजागर करते हुए उन्होंने कहा, "हम चावल का निर्यात नहीं कर सकते, जो कि एक किलोग्राम बढ़ने के लिए 5,000 लीटर पानी पीता है। आभासी व्यापार में हम एक किलोग्राम चावल का निर्यात करके 5000 लीटर पानी का भी निर्यात कर रहे हैं। वैसे भी पंजाब के लोगों का चावल प्रमुख भोजन नहीं है।
सत्र की अध्यक्षता में, नासा एग्रो इंडस्ट्रीज प्राइवेट लिमिटेड के एमडी संजीव नागपाल ने कहा, "हमने कई वर्षों से हवा, मिट्टी और पानी को प्रदूषित किया है जिसका नतीजा बंजर भूमि है।

राष्ट्र के गोदाम भोजन से भरे हो सकते है लेकिन किसान मार्गदर्शन की कमी के कारण दुर्दशा झेल रहा है और भूखा हैं। अधिकतम उत्पादकता के लिए किसानों को एकीकृत कृषि व्यवसाय मॉडल अपनाना चाहिए।
प्रगतिशील किसानों ने इस अवसर पर आए किसानों को अपने अनुभव के माध्यम से विविधीकरण के जरिये नकद फसलों को अपनाने की सलाह दी। इनोवेटिव फार्मर मीट का मुख्य उद्देश्य किसानों को टिकाऊ आजीविका प्रदान करना है, उन्हें विभिन्न सरकारी योजनाओं, आधुनिक कृषि तकनीकों पर शिक्षित करना, उत्पादकता और फसलों की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए उपलब्ध नवीनतम तकनीकों को अपनाने, नकद फसलों में विविधता लाने, फूलों की खेती, बागवानी और पशुधन - डेयरी, मत्स्य पालन, सूअर, मधुमक्खी पालन आदि हेतु प्रेरित करने के साथ ही उनका मार्गदर्शन करना है।

No comments:

Post a Comment