श्रीगंगानगर

शादी की आड़ मेें एक किशोरी को 40 हजार रुपये मेें बेच दिये जाने के एक मामले का अनूपगढ़ क्षेत्र में भंडाफोड़ हुआ है। पुलिस ने केसरीसिंहपुर थाना क्षेत्र में चक 12 एच-मोहलां निवासी एक दम्पत्ति सहित तीन जनों को गिरफ्तार किया है। साथ ही किशोरी को सकुशल बरामद कर बाल कल्याण समिति के समक्ष पेश किया। अनूपगढ़ थानाप्रभारी भवानीसिंह ने बताया कि मुक्त करवाई गई यह किशोरी 15-16 वर्ष की है, जिसे दम्पत्ति व एक अन्य जने ने डरा-धमकाकर इस शादी के लिए तैयार किया था। पहले यह मामला धारा 420 के तहत धोखाधड़ी का दर्ज किया गया, लेकिन किशोरी की बरामदगी के बाद इसमें मानव तस्करी की धारा 370 भी जोड़ दी गई। थानाधिकारी के अनुसार चक 12 एच मोहलां के बलराज सिंह पुत्र तारसिंह मजबी ने एक-डेढ़ महीना पहले अनूपगढ़ थाना क्षेत्र के चक 2 पीजीएम निवासी जसवीर सिंह का रिश्ता अपने गांव की एक युवती से तय करवाया था।

"> रिश्ता तय करने से पहले जसवीर सिंह और उसके परिवार वालों को बाकायदा युवती दिखाई गई। उन्हें यह युवती पसंद आ गई और रिश्ते के लिए हां कर दी। तब बलराज सिंह ने कहा कि युवती का परिवार बेहद गरीब है। इसलिए शादी का खर्च उन्हेें ही करना होगा। जसवीर सिंह के परिवार ने इसके लिए भी हां कर दी। विगत 28 मई को 12 एच मोहलां में शादी सम्पन्न हो गई। अगले दिन 29 मई को जसवीर सिंह अपनी दुल्हन को ब्याहकर अपने गांव लाया। तब उसके परिवार वाले चौक उठे, क्योंकि जो युवती उन्हें दिखाई गई थी, उसकी जगह 15-16 वर्ष की किशोरी दुल्हन बनी हुई थी। इस पर दो दिन तक दोनों पक्ष आपस में पंचायत करने में लगे रहे।
">थानाधिकारी के अनुसार इस पंचायती में बलराज सिंह और यह शादी करवाने मेें शामिल रहा बलविन्द्र सिंह पुत्र हरीसिंह व उसकी पत्नी ने जसवीर सिंह के परिवार के साथ समझौता कर लिया कि वे उनके 40 हजार रुपये लौटा देंगे। इस किशोरी को वापिस ले जायेंगे, लेकिन फिर इस समझौते से मुकर गये। कल शाम को जसवीर सिंह के पक्ष के लोगों ने इन लोगों को फिर से बातचीत करने के लिए बुलाया था। इसी बीच उन्होंने अपने साथ हुई इस धोखाधड़ी की शिकायत पुलिस को कर दी। देर रात को मुकदमा दर्ज कर बलराज सिंह, बलविन्द्र सिंह और उसकी पत्नी को गिरफ्तार कर लिया गया।
Tags

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.