अपडेट - उदयकरण हादसे में मृत बच्चे का हुआ अंतिम संस्कार, पिता गंभीर लुधियाना रेफर - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Thursday, June 29, 2017

अपडेट - उदयकरण हादसे में मृत बच्चे का हुआ अंतिम संस्कार, पिता गंभीर लुधियाना रेफर

एक साथ जलती चार चिताएं देख याद आया छह साल पुराना हृदयविदारक मंजर

दामाद के अंतिम संस्कार में शामिल होने जा रही सुरजीत कौर सदा के लिए हो गई जहां से रुखसत

बुजुर्ग सुरजीत कौर के साथ उसका बेटा, पोता व रिश्तेदार सहित गाड़ी चालक भी सो गया सदा की नींद


पुष्पिंदर प्रिंस, श्री मुक्तसर साहिब 

बुधवार को हुए हादसे में मृत चार लोगों का बुधवार को देर शाम अंतिम संस्कार हो गया था, जबकि मासूम बच्चे सतनाम सिंह का पोस्टमार्टम वीरवार को हुआ। देर शाम फरीदकोट से उसका शव गांव पहुचा तथा गमगीन माहौल में उसका अंतिम संस्कार कर दिया गया। गांव के सरपंच गुरलाभ सिंह के अनुसार उक्त हादसे में जख्मी अन्य सभी की हालत तो पहले से कुछ ठीक है, लेकिन मृतक बच्चे सतनाम सिंह के पिता गुरमीत सिंह की हालत बेहद नाजुक है तथा उसकी गंीाीर हालत को देखते हुए उसे लुधियाना रेफर किया गया है। गौरतलब है कि हादसे में घायल सतनाम की माता सहित तीन और महिलाएं फरीदकोट के मेडीकल कॉलेज एंड अस्पताल में दाखिल हैं।

 
करीब छह साल पूर्व राजस्थान में बीकानेर से कैंसर की दवाई लेने के लिए गए परिवार के पांच सदस्यों सहित छह लोगों की एक साथ हुई मौत की घटना के काले दिन को चाहे उदयकरण के लोग अब भूल चले थे, लेकिन बुधवार को एक और हादसे में गांव के एक ही परिवार के पांच सदस्यों की एक साथ हुई मौत ने करीब छह साल पूर्व हुई घटना की याद को ताजा कराते हुए फिर से दहला दिया है। बुधवार की देर शाम करीब साढ़े सात बजे एक साथ चार शवों को मुखग्री दी गई तो गांव वासियों के जेहन में एक बार फिर से छह साल पुराना हृदयविदारक मंजर घूम गया।
 गांव की रहने वाली बुजुर्ग सुरजीत कौर उर्फ सीतो अपने परिवार के लोगों के साथ दामाद के अंतिम संस्कार के लिए रवाना हुई थी, तथा उसने शायद सपने में भी यह नहीं सोचा होगा कि घर से निकलने के बाद जहां वह खुद शव के रूप ही घर लौटेगी वहीं साथ में घर से रुखसत हुआ उसका बेटा व पोता भी सदा के लिए इस जहां से रुखसत हो जाएंगे। यही नहीं इस घटना में उसके साथ उसका भतीजा तथा उन्हीं के परिवार का सदस्य गाड़ी का चालक भी सदा की नींच सो गए।
श्री मुक्तसर साहिब डीपो की रोडवेज की बस बुधवार को सुबह करीब सवा दस बजे बस स्टैंड से निकली तथा बाइपास होते हुए जब टीएमएच रिजोर्ट के पास पहुंची तो मोड़ पर अचानक सामने से एक जैन कार को ओवरटेक करती हुई क्रूजर गाड़ी के साथ उसकी आमने सामने की टक्कर हो गई। घटना इतनी भयावह थी कि बस गाड़ी को घसीटती हुई ले गई तथा क्रूजर के परखच्चे उड़ गए। हादसे में सुरजीत कौर सीतो (75) उसके बेटे बख्तावर सिंह (60), भतीजे मुख्तयार सिंह (55) व गाड़ी चालक गुरमेल सिंह उर्फ राणा (40) ने एंबूलेंस देरी से पहुंचने के कारण घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया। जख्मियों में शामिल दस साल के बच्चे सतनाम सिंह ने फरीदकोट रेफर करने पर उपचार के दौरान वहां दम तोड़ दिया। गंभीर रूप से जख्मी गुरनाम सिंह व नच्छत्तर सिंह के अलावा रमनदीप कौर (35),  सोमा रानी कौर (40),  जसवीर कौर (50) व जसविंदर कौर (52) का फरीदकोट में उपचार चल रहा है तथा दो महिलाओं की हालत गंभीर बताई जा रही है।


नियमों के आगे मानवता को दी तिलांजली


हालांकि घटना के बाद एकत्रित हुए राहगीरों ने तुरंत एंबूलेंस के लिए 108 पर घटना के संबंध में सूचित किया,  लेकिन करीब 11 बजे तक सरकारी एंबूलेंस नहीं पहुंची। समय रहते एंबूलेंस पहुंच जाती तो शायद एकाध जान बचने के अलावा जख्मियों को भी समय पर उपचार मिलने से उनकी हालत कम बिगड़ती। यही नहीं देरी से पहुंची 108 एंबूलेंस के स्टाफ ने नियमों का पाठ पढ़ाते हुए मानवता को तिलांजली दे दी। स्टाफ ने शवों को गाड़ी में ले जाने से साफ मना कर दिया तथा कहा कि उन्हें महज जख्मियों को ही लेकर जाने का अधिकार है। इसके बाद एक शव को सालासर सेवा सोसायटी की गाड़ी में  ले जाया गया जबकि दूसरे को गांव वालों द्वारा ट्रैक्टर ट्राली में पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल पहुंचाया गया।


ट्रैफिक पुलिस का काम रहा सराहनीय


इस दौरान जहां बाबा खेतरपाल सेवा सोसायटी की गाड़ी से घाय


लों को अस्पताल ले जाया वहीं ट्रैफिक पुलिस की गाड़ी में मरीजों को ले जाने के अलावा एक ट्रैफिक कर्मचारी की निजी गाड़ी में भी जख्मी को अस्पताल पहुंचाया गया। लेकिन घटनास्थल पर ही दम तोड़ चुक क्रूजर चालक गुरमेल सिंह राणा व वृद्धा सुरजीत कौर को अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया।

 मुक्तसर के टीएमएच होटल के पास हुआ था हादसा  


मारूत‍ि जैन को ओवरटेक करते हुए रोडवेज की बस से टकराई क्‍लूजर गाडी

गांव उदेकरण से खुडिडयां गांव में किसी रिश्‍तेदार के अंतिम संस्कार में जाते हुए हादसे का शिकार

 बीटीटी न्‍यूज नेटवर्क 

 श्री मुक्‍तसर साहिब के कोटकपूरा रोड बाईपास पर स्‍ि‍थत TMH होटल पास हुए एक सडक हादसे में अपने किसी रिश्‍तेदार के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए जा रहा परिवार हादसे का शिकार हो गया। बुधवार को सुबह करीब साढे इस बजे हुए उक्‍त हादसे में एक महिला व क्‍लूजर चालक सहित 4 लोगों की मौत हो गई, जबकि  एक बच्‍चे सहित 7 लोग गंभीर जख्‍मी हैं। सिविल अस्‍पताल मुक्‍तसर में ले जाए गए सभी पांच जख्मियों को फरीदकोट रैफर कर दिया गया है। देर शाम जख्मियों में शामिल दस साल के बच्चे सतनाम सिंह ने भी दम तोड़ दिया!

जानकारी के अनुसार क्रूज़र गाड़ी नंबर पीबी 30 जी 9572 में सवार होकर  गांव उदेकरण से एक ही परिवार से संबं‍धितदस सदस्‍य गाड़ी चालक राणा सहित ग्‍यारह लोग गांव खुडिडयां में अपने किसी रिश्‍तेदार के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए जा रहे थे। कोटकपूरा बाईपास से जब उक्‍त गाड़़ी टीएमएच होटल के पास ज़ेन कार को ओवरटेक करने लगी तो अचानक आगे मोड़ से आ रही रोडवेज की बस के साथ जा टकराई।  इस घटना में ड्राइवर राणा (40), बख्‍तावर सिंह (60) , मुख्‍तयार सिंह (55) व सुरजीत कौर सीतो (75) की मौक पर ही मौत हो गई। घटना के तुरंत बाद लोगों ने 108 एंबूलेंस को सूचित किया,  लेकिन काफी समय के बावजूद सरकारी गाड़ी नहीं पहुंची। आखिर एक बाबा खेतरपाल सेवा सासायटी की एंबूलेंस के अलावा टै्रफि‍क पुलिस की गाड़ी पर जख्‍‍िमयों को अस्‍पताल पहुंचाया गया। गंभीर रूप से जख्‍मी सात लोगों में से गुरनाम सिंह व नच्‍छत्‍तर सिंह को आदेश अस्‍पताल में भर्ती करवाया गया है जबक‍ि सिविल अस्‍पताल में भर्ती करवाए गए सतनाम सिंह (10), रमनदीप कौर (35),  सोमा कौर (40),  जसवीर कौर (50) व जसविंदर कौर (52)  की गंभीर हालत को देखते हुए  उनको फ़रीदकोट रेफेर कर दिया गया है।
घटनास्‍थल पर मौके की नीचे वी‍डियो देखें 



No comments:

Post a Comment