देह व्यापार के अड्डे का पर्दाफाश, पांच महिलाओं सहित छह काबू - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Friday, July 07, 2017

देह व्यापार के अड्डे का पर्दाफाश, पांच महिलाओं सहित छह काबू

 रावतसर में कईं वर्षां से चल रहा था देह व्यापार का अड्डा  

  हनुमानगढ़ जिले के रावतसर कस्बे में पिछले काफी समय से चल रहे एक चकलाघर पर पुलिस ने गुरुवार की देर रात को छापा मारा, जहां से एक युवती सहित चार महिलाओं और एक युवक को गिरफ्तार किया। डीएसपी जयसिंह दइया की अगुवाई में यह कार्रवाई रात 11 से 12 बजे के बीच की गई। पकड़ी गई पांच महिलाओं में से तीन श्रीगंगानगर जिले के रावला क्षेत्र की निवासी हैं, जबकि एक युवती पश्चिम बंगाल के कोलकाता की है। चकलाघर की अधेड़ संचालिका ने बंगाल की इस युवती सहित चार महिलाओं को वेश्यावृत्ति के लिए बुलाया हुआ था। पुलिस ने जब रात को छापा मारा, तो इनमेें 45 वर्ष की एक महिला 25 वर्ष के युवक के साथ कमरे में आपत्तिजनक हालत में थी।

पुलिस ने बताया कि एक मुखबिर की सूचना पर यह छापेमारी की गई, जबकि इस चकलाघर के बारे में रावतसर का लगभग हर बाशिंदा अच्छी तरह से जानता था। डीएसपी दइया ने पुलिस के ही कर्मचारियों को सादा वर्दी में बोगस ग्राहक बनाकर वार्ड नं. 18 में रानी (50) पत्नी स्व. फतेहचदं ओड़ के मकान में भेजा। इन कर्मचारियों ने सौदेबाजी होते ही डीएसपी को गुप्त इशारा कर दिया, जिस पर उन्होंने तुरंत ही छापा मार दिया। पुलिस ने बताया कि रानी के इस मकान में चार-पांच कमरे बने हुए हैं, जिनमें हर तरह की सुख-सुविधाएं जुटाई हुई थीं। पुलिस ने बताया कि एक कमरे में 45 वर्षीय गुड्डी पत्नी महावीर ओड़ राजपूत रावतसर के वार्ड नं. 18 निवासी 25 वर्षीय ज्ञानी पुत्र लालचंद के साथ आपत्तिजनक हालत में पाई गई। दूसरे कमरे में 19 वर्षीय पूनम पत्नी राजकुमार ओड़, 45 वर्षीय रीटा पत्नी सुखदेव ओड़ राजपूत तथा 35 वर्षीय रोमा डे पत्नी शंकर डे निवासी वीआलदा, कोलकाता सिटी मौजूद थीं। अड्डे की संचालिका रानी की तलाशी लेने पर उससे डीएसपी द्वारा बोगस ग्राहक के रूप में पुलिसकर्मियों को दिये हुए हस्ताक्षरित नोट बरामद हो गये। इन सभी छह जनों को वेश्यावृत्ति करने के जुर्म में पीटा एक्ट की धारा 3, 4, 5, 6 व 7 के तहत गिरफ्तार कर लिया गया। जानकारी के अनुसार रानी नामक यह महिला कईं वर्षांे से इस अड्डे का संचालन कर रही थी। बताया जाता है कि उसने अपने घर के पास ही इस काम के लिए यह अलग मकान बनाया हुआ था, जिसमें छह कमरे हैं। प्रत्येक कमरे में कूलर, एलईडी, बैड आदि सुविधाएं जुटा रखी थीं।

No comments:

Post a Comment