विदेशी कम्पनी का डुप्लीकेट माल बरामद - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Sunday, July 02, 2017

विदेशी कम्पनी का डुप्लीकेट माल बरामद

 हार्डवेयर की फर्मांे पर छापेमारी- दो फर्मांे पर केस दर्ज, दो राउंडअप


हार्डवेयर आइटम बनाने वाली नामी विदेशी कम्पनी हैटिज जर्मन का डुप्लीकेट माल श्रीगंगानगर में बिकने का भंडाफोड़ हुआ है। इस कम्पनी की विजिलेंस टीम की सूचना पर पुलिस ने आज शहर में हार्डवेयर की कईं दुकानों पर छापेमारी की। इनमें से कोतवाली क्षेत्र की दो दुकानों से भारी मात्रा में इस कम्पनी का डुप्लीकेट माल बरामद हुआ, जिस पर इन फर्मांे के संचालकों पर मामले दर्ज कर लिये गये।
 इन फर्मांे के दो संचालकों को पुलिस ने पूछताछ के लिए राउंडअप कर लिया है। कोतवाल राहुल यादव ने बताया कि इंडिया आयरन स्टोर के संचालक अनिल बंसल तथा गंगा प्लाइवुड्स के संचालक सुरेश कुमार पर भादस की धारा 420, कॉपीराइट एक्ट की धाराओं में यह मामले दर्ज किये गये हैं। इन फर्मांे से हैटिज जर्मन कम्पनी के डुप्लीकेट स्लाइडिंग डोर चैनल जब्त किये गये हैं। इसके अलावा कुछ और सामान भी जब्त किया गया था, जो ओरिजनल पाये जाने के कारण फर्म संचालकों को वापिस कर  दिया गया। पुलिस की इस छापेमारी से हार्डवेयर विक्रेताओं में आज दोपहर बाद से हडक़म्प मचा रहा। काफी संख्या में हार्डवेयर व्यवसायी कोतवाली इस पूरे मामले की जानकारी लेने के लिए पहुंचे। 

श्रीगंगानगर से हुई शिकायत
प्राप्त जानकारी के अनुसार हैटिज कम्पनी को श्रीगंगानगर की ही एक हार्डवेयर फर्म के संचालक ने ईमेल के जरिये लगभग एक माह पहले शिकायत की थी कि यहां पर उनकी कम्पनी के नकली उत्पाद बिक रहे हैं। दरअसल श्रीगंगानगर में निर्मित एक बड़ी बिल्डिंग के निर्माण मेें हैटिज कम्पनी के किचन स्लाइडिंग चैनल सहित अन्य वस्तुएं मंगवाई गई थीं। जब इनकी फीटिंग की जा रही थी, तब मैकेनिक को शक हुआ कि यह माल नकली है। मैकेनिक ने बिल्डिंग के मालिक को और बिल्डिंग मालिक ने उस फर्म के मालिक को माल नकली होने के बारे में बताया। यह माल फर्म को वापिस कर दिया। इस पर फर्म मालिक ने कम्पनी को शिकायत की थी। कम्पनी ने इस शिकायत को गम्भीरता से लिया। अपनी एक विजिलेंस टीम को उसी समय श्रीगंगानगर भेज दिया। इस टीम ने यहां आकर कईं फर्मांे पर जाकर कम्पनी के प्रोडेक्ट खरीदे, जिन्हें कम्पनी की ही लैब में जांच के लिए भेज दिया, क्योंकि यह प्रोडेक्ट बिल्कुल असली लगते थे। लैब टेस्टिंग मेें स्लाइडिंग चैनल नकली पाये गये।

पांच दिन से पड़ताल
लैब टेस्टिंग रिपोर्ट आने पर हैटिज कम्पनी के मुम्बई स्थित मुख्यालय के निर्देश पर दिल्ली से विजिलेंस टीम को श्रीगंगानगर भेजा गया। इस टीम को लीड कर रहे हेमंत कुमार ने 26 जून को यहां डेरा डाल दिया। पिछले चार दिनों से इस टीम ने  हार्डवेयर की कईं दुकानों पर जाकर फिर से पुख्ता किया कि इनके यहां अभी भी नकली माल बिक रहा है। आज यह टीम एक्शन में आ गई। दोपहर लगभग दो बजे कोतवाली से इस विजिलेंस टीम के साथ दो सब इंस्पेक्टर राकेश स्वामी और संदीप को दलबल सहित छापेमारी के लिए भेजा गया। इसके बाद हार्डवेयर व्यवसायियों में हडक़म्प मच गया। टीम इंचार्ज हेमंत ने बताया कि इंडिया आयरन स्टोर से 36 स्लाइडिंग डोर चैनल तथा गंगा प्लाइवुड से 62 स्लाइडिंग डोर चैनल बरामद हुए हैं। डोर क्लोजर सिलेंडर भी मिले थे, लेकिन वे ओरिजनल थे। उन्हें लौटा दिया गया।
गायब हो गया थानाप्रभारी
विजिलेंस टीम ने चार दिन के सर्वे में एक दर्जन हार्डवेयर की दुकानों को चिह्नित किया, जहां से यह नकली माल बिक रहा था। शनिवार सुबह इस टीम ने इन दुकानेां पर छापेमारी करने के लिए कोतवाली और जवाहरनगर थाना पुलिस से सम्पर्क किया। कोतवाली पुलिस अपने क्षेत्र की दो दुकानेां पर छापे मारने के लिए तत्काल तैयार हो गई, लेकिन जवाहरनगर थानाप्रभारी शकील अहमद विजिलेंस टीम को गोली गिटाकर गायब हो गये। टीम इंचार्ज हेमंत ने बताया कि लक्कड़मण्डी रोड पर 10 दुकानें जवाहरनगर थाना क्षेत्र में हैं, जिन पर छापे मारे जाने थे। दोपहर 2 बजे तक जवाहरनगर थानाप्रभारी उन्हें लारे लगाते रहे। उसके बाद मोबाइल फोन अटेंड करना ही छोड़ दिया। इसके बाद कोतवाली को सूचना दी गई। योजना यह थी कि सभी दुकानों पर एक साथ छापे मारे जायें, लेकिन जवाहरनगर थाना पुलिस ने कोई सहयोग नहीं दिया। अन्यथा इन सभी 12 दुकानों से लाखों का नकली माल बरामद होता।

हिसार है केन्द्र बिन्दु
कम्पनी की विजिलेंस टीम के सूत्रों के अनुसार हेटिज जर्मन के नकली उत्पाद हरियाणा के हिसार जिले में कहीं बनाये जाते हैं, जो दिल्ली मेें सक्रिय एजेंटों के जरिये आगे बिकते हैं। कम्पनी नकली माल बनाने वालों तक पहुंचने में लगी हुई है। आज यहां पकड़े गये फर्म संचालकों से विजिलेंस टीम के साथ-साथ पुलिस भी पूछताछ कर रही है कि उनके पास यह नकली माल आया कहां से? इन फर्मांे के यहां 2012 का भी नकली माल मिला है। लिहाजा यह नकली माल करीब 5 वर्षांे से यहां बिकने का खुलासा हुआ है। पुलिस ने बताया कि अभी अनिल और सुरेश कुछ नहीं बता रहे। उनके पास यह माल कहां से आया? अलबत्ता कोतवाली में मौजूद इंडिया आयरन स्टोर के लेखराज बंसल ने कहा कि माल दिल्ली से आता है, लेकिन उनके पास इसका कोई बिल नहीं है। पुलिस को सब बता दिया जायेगा कि माल कैसे यहां पहुंचता था।


No comments:

Post a Comment