डिजीटल करंसी बिटकॉइन ट्रेडिंग के नाम पर करोडों की ठगी, शहर में चर्चा का विषय प्रशासन मौन - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Monday, July 10, 2017

डिजीटल करंसी बिटकॉइन ट्रेडिंग के नाम पर करोडों की ठगी, शहर में चर्चा का विषय प्रशासन मौन

कई कई लाख रुपये वापस मिलने की उम्मीद लिए पैसे डूबने के भय से लोग नहीं आ रहे खुलकर सामने

  कुछ लोगों द्वारा वेबसाइड बनाकर डिटीटल करंसी की ट्रेडिंग के नाम पर शहर व आस पास के सैकडों लोगों को करोड़ों रुपये का चूना लगाने का मामला चर्चाओं में है। भले इस मामले में पैसे मिलने की उम्मीद में बैठे लोग पैसे डूब जाने के भय से अभी तक खुलकर सामने आने से कतरा रहे हैं, लेकिन सामने वाले कुछ लोगों की माने तो मालवा क्षेत्र के विभिन्न शहरों से संबंधित लोगों के अरबों रुपये का गड़बड़झाला हुआ है, जबकि प्रशासन अभी तक इस मामले में कुंभकरण की नींच में है।
जानकारी के  अनुसार बिटकॉइन नामक डिजीटल करंसी की ट्रेडिंग करने के लिए श्री मुक्तसर साहिब से संबंधित चार लोगों ने मिलकर एक वेबसाइड तैयार की हुई थी। इस साइट पर उक्त लोग डिजिटल करेंसी की खरीद करवाने तथा मोटे ब्याज के लालच लोगों को अपने जाल में फंसाते थे। जानकारी के अनुसार एक बिटकॉइन की कीमत भारतीय रुपये के अनुसार करीब एक लाख 80 हजार रुपये के करीब है। इस करंसी को कई देशों में मान्यता मिल चुकी है। उक्त साइट के संचालकों ने लोगों को बताया गया कि मलेशिया की इस वेबसाइड पर बिटकॉइन की ट्रेडिंग होती है। लोगों को साइट के बारे में बडे बडे होटलों में सेमीनार करवाकर जागरूक किया जाता था। इस वेबसाइट की ओर से दिए गए प्लान अनुसार एक बिटकान से कम पैसे लगाने पर 0.75 प्रतिशत ब्याज, दो, चार या छह बिटकान पर एक प्रतिशत


 रोजाना ब्याज और आठ, दस, या 12 बिटकान पर पैसे लगाने से 1.25 प्रतिशत रोजाना, 25 बिटकान पर 1.50 प्रतिशत ब्याज दिया जाता था। रोजाना आ रहे इस मोटे ब्याज के कारण लोग इसके झांसे में आ गए। ठगी का शिकार हुए लोग गुरु गोबिंद सिंह पार्क में एकत्रित हुए। इन लोगों का नेतृत्व कर रहे मनदीप सिंह के अनुसार बड़े लालच में आकर इन्होंने पैसे लगाए थे। अब जब पैसे वापस मांगे जा रहे हैं तो उन्हें वाट्सएप पर धमकियां देने का इलजाम लगाकर सीआईए स्टाफ में शिकायत कर दी गई है।  उन्होंने कहा कि वह अपने हकों के लिए लड़ रहे हैं। उनकी ओर से रमनदीप नागपाल को ऐसा कोई संदेश नहीं भेजा गया धमकियां देना तो दूर की बात। उन्होंने बताया कि यदि उसको उसके पैसे वापिस नहीं किए तो वह कानूनी कार्रवाई भी करेंगे। मनदीप ने बताया कि कई लोग इनकी ठग्गी का शिकार हुए हैं और मुक्तसर में करीब पांच से सात करोड़ रुपये की ठगी हुई है।  मनदीप ने बताया कि कुछ लोग तो बाहर भागने की ताक में है और कुछ बीमारी का बहाना लगा रहे हैं। लेकिन वह इस मामले में जल्द ही और भी खुलासे करेंगे।

No comments:

Post a Comment