रातभर टिब्बों में पड़ा रहा करीब 42 वर्षीय मृतक का शव

सूचना के बाद पहुंचे बेटे तथा साले ने की दौलतराम की पहचान 

कार्रवाई करती हुई पुलिस

दंपति के बीच आपसी मनमुटाव इस हद तक भी पहुंच सकता है यह दौलत राम के परिवार में शायद किसी ने नहीं सोचा होगा। किसी बात पर नाराज होकर पीहर आई हुई पत्नी को लेने आये दौलत राम को पत्नी की बात इस कद्र दिल पर लगी कि उसने अपने सीने में गोली दागकर अपनी जान दे दी। श्रीगंगानगर जिले में सूरतगढ़ शहर के नजदीक किशनपुरा आबादी में रात को किसी समय खुदकुशी की यह घटना हुई। मंगलवार सुबह इसका तब पता चला, जब किशनपुरा आबादी की कुछ महिलाएं रोजाना सुबह गौशाला जा रही थीं। रास्ते में इन्होंने रेतीले टिब्बों पर एक शख्स को लहुलुहान मृत पड़े देखा। सूचना के बाद पहुंचे दौलतराम के बेटे व साले ने उसकी पहचान की।
कुछेक महिलाओं ने वापिस गांव में जाकर टिब्बों पर लाश पड़े होने के बारे में बताया तो देखते ही देखते यह खबर जंगल में आग की तरह फैल गई। घटनास्थल पर सूरतगढ़ सिटी थाना से सब इंस्पेक्टर प्रतापसिंह दलबल सहित पहुंचे। पुलिस के अनुसार मृतक की पहचान होने में ज्यादा देर नहीं लगी। पता चला कि मृतक 42 वर्षीय दौलतराम बावरी घमूड़वाली थाना क्षेत्र के चक 81 एलएनपी का निवासी है, जिसका ससुराल किशनपुरा आबादी में है। दौलतराम की पहचान उसके ससुराल वालों ने ही की।



पुलिस ने बताया कि दौलतराम की पत्नी पिछले कईं दिनों से पीहर आई हुई है। पति-पत्नी में किसी बात को लेकर मनमुटाव हो गया था। दौलतराम कल अपने पुत्र संदीप को साथ लेकर ससुराल आया। शाम लगभग 5 बजे उसने पत्नी को साथ चक 81 एलएनपी चलने के लिए कहा, लेकिन उसने इंकार कर दिया। पुलिस के अनुसार इस बात को लेकर पति-पत्नी में तकरार हो गई। नौबत झगड़े तक आ गई। बताया जाता है कि उसी दौरान दौलतराम ने देसी कट्टा निकाल लिया था, जिस पर उसकी पत्नी को उसके ससुराल वाले घर के अंदर ले गये। दौलतराम कुछ देर तक बाहर खड़ा पत्नी के आने का इंतजार करता रहा, लेकिन वह नहीं आई। इसके बाद वह चुपचाप वहां से चला गया। आज सुबह उसकी लाश गांव से कुछ ही दूरी पर गौशाला के नजदीक पड़ी मिली। पास में एक देसी कट्टा पड़ा था। गोली उसके सीने में लगी हुई थी। बताया जा रहा है कि रात को दौलतराम ने शराब का सेवन करने के बाद खुदकुशी कर ली। सुबह उसका पुत्र संदीप और साला सुल्तान मौके पर आये, जिन्होंने मृतक की पहचान की। बाद में संदीप ने रिपोर्ट देते हुए कहा कि उसका पिता शाम को जब मां ने उसके साथ जाने से मना कर दिया, तब यह कहते हुए चला गया कि उसे वापिस गांव जाना है और मजदूरों को मजदूरी का भुगतान करना है। पोस्टमार्टम करवाने के बाद पुलिस ने शव परिवार वालों को सौंप दिया।
Tags

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.