अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने घोषणा की कि उन्होंने सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल-असद के खिलाफ लड़ रहे विद्रोहियों को समर्थन देने के कार्यक्रम को बंद कर दिया है क्योंकि यह ‘‘विशाल, खतरनाक और फिजूलखर्ची’’ वाला था। अमेरिका के विशेष अभियान के प्रमुख जनरल टोनी थॉमस ने इसकी पुष्टि की कि चार साल पुराने इस अभियान को बंद कर दिया गया है लेकिन उन्होंने इस बात को खारिज किया यह फैसला रूस को संतुष्ट करने की इच्छा से प्रेरित है। रूस असद सरकार का समर्थन करता है। ट्रंप ने ट्वीट कर कहा, ‘‘अमेजन वाशिंगटन पोस्ट ने असद के खिलाफ सीरियाई विद्रोहियों को विशाल, खतरनाक और फिजूल की धनराशि वाले अभियान को बंद करने के मेरे फैसले को तोड़ मरोड़कर पेश किया।’’ गौरतलब है कि ट्रंप ने अमेजन संस्थापक और सीईओ जेफ बेजोस के मालिकाना हक़ वाले द वाशिंगटन पोस्ट पर हमला बोलते हुए आरोप लगाया कि अखबार का इस्तेमाल नेताओं पर दबाव बनाने के लिए कांग्रेस के खिलाफ किया जा रहा है ताकि नेता ई-कॉमर्स कंपनी के कथित कर-एकाधिकार पर ध्यान ना दें। ट्रंप ने अखबार पर गलत खबरें देने का आरोप लगाया। यह ट्वीट कुछ घंटे पहले समाचार पत्र में प्रकाशित एक लेख का जवाब लग रहा है जिसका शीर्षक है ‘‘रूस के साथ सहयोग सीरिया में ट्रंप की रणनीति का अहम बिंदू बन गया है।’’ अमेरिका और रूस इस महीने हैम्बर्ग में जी 20 में अपनी पहली बैठक में दक्षिण सीरिया में लड़ाई कम करने पर सहमत हो गए थे। पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने असद सरकार के खिलाफ विभिन्न चरमपंथी संगठनों द्वारा मांगी गई विदेशी सहायता के तौर पर विद्रोहियों को सहायता देने के कार्यक्रम को वर्ष 2013 में मंजूरी दी थी।



Tags

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.