अलसुबह घर से गई थी मंदिर, संदिज्ध हालत में खून से लथपथ मिली लाश - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Monday, July 31, 2017

अलसुबह घर से गई थी मंदिर, संदिज्ध हालत में खून से लथपथ मिली लाश


चार बजे गई थी घर से करीब साढ़े 5 बजे उसके शव पर पड़ी लोगों की नजर

 हनुमानगढ़ जिले में रावतसर कस्बे में आज बड़े तडक़े एक युवती की बेहद संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। यह युवती मन्दिर जाने के लिए निकली थी। मन्दिर पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई। मन्दिर के नजदीक वह हाइवे के किनारे मृत पाई गई, जब सैर पर निकले कुछ लोगों ने उसे वहां देखा। इसकी सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर आकर जांच-पड़ताल में जुट गई। करीब दो घंटे बाद मृतका की पहचान कस्बे में वार्ड नं. 12 निवासी सुमेस्ता (34) पत्नी श्रवण कुम्हार के रूप में हुई। उसके पति और तीन दिन से आये हुए उसके भाई कालूराम ने शव की पहचान की।





साथ ही आशंका जताई कि सुमेस्ता की हत्या की गई है। हत्या को बेहद साजिशपूर्ण तरीके से दुर्घटना का रूप दिया गया है। पुलिस ने दोनों आशंकाओं को देखते हुए जांच-पड़ताल शुरू कर दी। देर शाम सुमेस्ता के शव का पोस्टमार्टम हो पाया। इससे पहले पूरे दिन मुकदमा दर्ज करने और पोस्टमार्टम करवाने को लेकर पुलिस के साथ-साथ परिवारजन भी असमंजस की स्थिति का सामना करते रहे।
घर के नजदीक ही बाबा खेत्रपाल और शिवजी का मन्दिर
सुमेस्ता कुम्हार तडक़े करीब 4 बजे मन्दिर जाने के लिए घर से निकली थी। घर के नजदीक ही बाबा खेत्रपाल और शिवजी का मन्दिर है। भाई कालूराम ने दर्ज कराये मुकदमे में बताया है कि सुमेस्ता ने खेत्रपाल मन्दिर के बाद शिव मन्दिर में जल चढ़ाने के लिए जाना था। सावन का महीना होने के कारण रोजाना सुबह इतनी जल्दी ही मन्दिरों में श्रद्धालुओं का आना शुरू हो जाता है। बताया जाता है कि कल रविवार को सुमेस्ता मन्दिर नहीं गई थी। वह रोजाना मन्दिर जाती थी। आज सोमवार होने के कारण उसने जल चढ़ाने के लिए शिव मन्दिर भी जाना था। घर से निकलकर वह जैसे ही बाबा खेत्रपाल मन्दिर में जाने के लिए मेगा हाइवे पर आई। इसके कुछ देर बाद ही उसकी मौत हो गई। करीब साढ़े 5 बजे उसके शव पर लोगों की नजर पड़ी। तीन-चार लोग हाइवे पर सैर करने के लिए निकले थे। उन्होंने महिला का शव पड़े देखकर थाने में सूचना दी। थानाधिकारी विजय सिंह दलबल सहित मौके पर आ गये। करीब सवा 6 बजे शव को अस्पताल के मुर्दाघर के लिए रवाना कर दिया गया।
फुटेज में बहुत कुछ संदिग्ध
मृतका की अभी पहचान नहीं हुई थी, लेकिन पुलिस को पहली ही नजर में मामला संदिग्ध लगने लगा। उसने अपनी जांच-पड़ताल करनी शुरू कर दी। घटनास्थल के नजदीक ही जीएस एग्रीकल्चर फर्म पर लगे हुए सीसी कैमरों की फुटेज चैक करने के लिए इस फर्म के मालिक कृष्ण को बुला लिया गया। फुटेज देखने पर बहुत कुछ संदिग्ध दिखाई दिया।  इस फर्म के बाहर दो-तीन कैमरे लगे हुए हैं। इनकी फुटेज में सुमेस्ता 4 बजकर 1 मिनट पर गली से आते हुए व मेगा हाइवे की तरफ जाते हुए दिखाई दे रही है। वह जैसे ही हाइवे पर आगे निकल जाती है, तभी एक कैम्फर गाड़ी दिखाई देती है। दूसरी तरफ से एक क्रूजर गाड़ी निकलती है। इसी दौरान एक शख्स सामने झाडिय़ों में से निकलकर आता है। वह मोबाइल फोन पर बात करते दिखता है। क्रूजर गाड़ी आगे जाकर पांच मिनट में वापिस आती है। यही गाड़ी फिर वहीं से गुजरते हुए दिखाई देती है। फुटेज में दिख रहा है कि कैम्फर गाड़ी पहले धीरे होती है। फिर एकाएक बड़ी तेज रफ्तार से दौड़ जाती है। यह गाड़ी कुछ देर बाद वापिस आती है। फोन करने वाला शख्स इस गाड़ी में बैठकर चला जाता है। पुलिस की सारी जांच इन दोनों गाडिय़ों पर केन्द्रित हो गई है। रावतसर में मेगा हाइवे और नोहर जाने वाले स्टेट हाइवे के टोल नाकों पर लगे सीसी कैमरों की फुटेज चैक कर इन गाडिय़ों के नम्बर हासिल किये जा रहे हैं। साथ ही कस्बे में और कईं जगहों पर लगे सीसी कैमरों की फुटेज को भी आज सारा दिन खंगाला गया।
इसलिए है मामला संदिग्ध
पुलिस को पहले दी रिपोर्ट में कालूराम ने जीएस एंटरप्राइजेज के सीसी कैमरे में जो दोनों गाडिय़ों की आवाजाही और सुमेस्ता के वहां से निकलने के पूरे घटनाक्रम का उल्लेख कर दिया। इस उल्लेख को पुलिस ने मुकदमा दर्ज करने से पहले नकार दिया। सूत्रों के मुताबिक पुलिस अभी इस मामले को हत्या के रूप में दर्ज नहीं करना चाहती थी। इसलिए कालूराम से दूसरी रिपोर्ट ली गई। इस रिपोर्ट में सीसी कैमरे का सारा घटनाक्रम हटा दिया गया। इसकी जगह कालूराम की ओर से लिखा गया है कि उसकी बहन की मौत या तो दुर्घटना में हुई है अथवा साजिशपूर्ण तरीके से दुर्घटना के रूप में हत्या की गई है। मामला धारा 279 व 304 ए में दर्ज किया गया है, लेकिन इसकी जांच पुलिस हत्या का मामला मानकर कर रही है। पुलिस का कहना है कि अगर इसके ठोस सबूत जांच में मिल गये, तो फिर यह मामला हत्या में तब्दील हो जायेगा।
मृतका ने की थी दूसरी शादी
मृतका सुमेस्ता ने श्रवण कुम्हार के साथ दूसरी शादी की थी। दरअसल सुमेस्ता की शादी, श्रवण कुम्हार के फुफेरे भाई के साथ हुई थी, जिससे उसके संतान के रूप में एक 12-13 वर्षीय पुत्री है। लगभग 10 वर्ष पहले सुमेस्ता-श्रवण पति-पत्नी के रूप में रहने लगे। श्रवण से सुमेस्ता के आठ वर्ष का पुत्र है। सुमेस्ता का भाई कालूराम मूल रूप से रावतसर के नजदीक मोहनमगरिया का निवासी है, लेकिन वह फिलहाल श्रीगंगानगर मेें सद्भावनानगर में रह रहा है। तीन दिन से कालूराम रावतसर में अपनी बहन के घर में ही था। आज सुबह करीब 7.30 बजे किसी ने घर आकर इन दोनों से पूछा कि सुमेस्ता कहां है, तो उन्होंने कहा कि वह तो मन्दिर गई हुई है। जब पूछा गया कि सुबह 4 बजे की मन्दिर गई हुई सुमेस्ता अभी तक वापिस नहीं आई, तो उसका उन्होंने पता क्यों नहीं किया। श्रवण-कालूराम ने कहाकि सुमेस्ता अपना मोबाइल घर पर छोड़ गई है। उन्हें लगा कि मन्दिर के बाद सुमेस्ता टिफिन सेंटर के लिए सब्जियां खरीदने के लिए मण्डी चली गई होगी।


No comments:

Post a Comment