सभी भारतीय साझा वित्तीय, आर्थिक और डिजिटल क्षेत्र में आ चुके है 


नई दिल्ली. वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कहा है कि जनधन, आधार और मोबाइल जैम क्रांति से सामाजिक क्रांति की शुरुआत हो चुकी है. इससे सभी भारतीय साझा वित्तीय, आर्थिक और डिजिटल क्षेत्र में आ चुके हैं. यह कुछ उसी तरीके से है जिससे माल एवं सेवा कर (जी.एस.टी.) से एकीकृत बाजार बना है. उन्होंने कहा कि अब देश की निगाह एक अरब पर है. एक अरब आधार नंबर जो एक अरब बैंक खातों और एक अरब मोबाइल फोन से जुड़े हों. एक बार यह हो जाने के बाद पूरा देश वित्तीय और डिजिटल मुख्यधारा में आ जाएगा. प्रधानमंत्री जनधन योजना (पी.एम.जे.डी.वाई.) की तीसरी वर्षगांठ के अवसर पर फेसबुक पोस्ट में लिखा है, जिस तरह से जीएसटी से एक कर, एक बाजार, एक भारत बना है, पी.एम.जे.डी.वाई. और जैम क्रांति से सभी भारतीयों को एक साझा वित्तीय, आॢथक और डिजिटल क्षेत्र से जोड़ा जा सकता हैं. कोई भारतीय इस मुख्यधारा से बाहर नहीं रहेगा. वित्त मंत्री ने कहा कि जैम किसी सामाजिक क्रांति से कम नहीं है. इससे सरकार, अर्थव्यवस्था और विशेषरूप से गरीबों को काफी फायदा मिलेगा.

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.