सीबीआई की विशेष अदालत ने सोमवार को डेरा प्रमुख बाबा राम रहीम को 15 साल पुराने रेप केस में 20 साल की सजा सुनाई है. राम रहीम के 376, 511 और 506 धारा के तहत उन्हें सजा दी गई है. राम रहीम को 25 अगस्त को ही दोषी ठहरा दिया था, लेकिन उन्हें सजा सोमवार को सुनाई गई. सुरक्षा को देखते हुए रोहतक जेल में ही कोर्ट बनाया गया. दोनों पक्षों के वकील ने जज के सामने अपना-अपना पक्ष रखा. इस दौरान बाबा रहीम चुपचाप खड़ा रहा और वकीलों की दलील सुनता रहा. सुनवाई के दौरान राम रहीम के आंसू निकल आए और वो खूब रोया.

कोर्ट के फैसले के बाद राम रहीम के वकील ने बताया कि राम रहीम पर दो अलग अलग केस में 10-10 साल की सजा सुनायी गयी है. दरअसल गुरमीत राम रहीम पर तीन धाराएं 376, 509 और 511 लगी थी. कोर्ट में फैसले के बाद इस पर भी चर्चा हुई कि 376 में जो सजा सुनायी गयी है उसके साथ अन्य धाराओं की सजा भी साथ चलेगी या उन धाराओं की सजा अलग से चलेगी. इसके बाद साफ हो गया है कि राम रहीम को बीस साल जेल में रहना पड़ेगा.


 कड़ी सुरक्षा के बीच रोहतक की सुनारिया जेल में ही विशेष अदालत लगाई गई जिसमें जज जगदीप सिंह ने डेरा सच्चा सौदा के मुखिया और बलात्कारी राम रहीम को सजा सुनाई. सजा सुनते ही राम रहीम जमीन पर बैठकर रोने लगा. ये सजा सुनाने के लिए जज को हैलीकॉप्टर से पंचकूला से रोहतक तक लाया गया.

डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख 50 वर्षीय राम रहीम को भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) की धारा 376 (बलात्कार) के तहत 50 हजार का जुर्माना, 506 (डराने-धमकाने) 10 हजार का जुर्माना और 509 (महिला की इज्जत से खिलवाड़) के तहत दोषी पाया गया है। कोर्ट ने अपने फैसले में बलात्कारी बाबा राम रहीम सिंह पर 30 लाख जुर्माना भी लगाया है. जुर्माने की इस रकम में से इस केस की दोनों पीड़ित साधवियों को 14-14 लाख देने होंगे.

इसके साथ ही बाबा को कैदी नंबर 1997 का नंबर दिया गया है। वंही बाबा को जेल की बैरक में रखा जायेगा।

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.