पुलिस अधीक्षक के समक्ष पेश होने के बाद कहीं जाकर दर्ज हुआ मामला 

बीकानेर

दिल्ली की एक युवती को कथित रूप से बीकानेर में 23 लोगों ने सामूहिक दुष्कर्म की शर्मनाक घटना को अंजाम दिया। इससे भी शर्मनाक यह रहा कि पीडि़ता की सम्बन्धित थाने में सुनवाई तक नहीं हुई, तो हारकर वह पुलिस अधीक्षक के समक्ष पेश हुई। एसपी सवाईसिंह गोदारा के आदेश पर बाद कहीं जाकर जेएनवीसी थाना में 23 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। सत्र बताते हैं कि अभी भी पुलिस की कारगुजारी संतोषजनक नहीं है तथा पुलिस ने जांच-पड़ताल करते हुए पकड़े गए आठ लोगों को में से तीन लोगों को बीती रात किसी दबाव के चलते छोड़ दिया गया। पांच को अभी भी बिठा रखा है।
करीब 28 वर्षीय यह युवती नई दिल्ली में न्यू फ्रेंच कॉलोनी की निवासी है, जिसका एक मकान बीकानेर में जयपुर मार्ग पर खाटू श्याम मन्दिर के पीछे रिड़मलसर पुरोहितान में है। इस मकान को सम्भालने के लिए वह अकसर आती-जाती रहती है। पीडि़ता के मुताबिक वह 25 सितम्बर की शाम को खाटू श्याम मन्दिर में पूजा-अर्चना कर बाहर आकर खड़ी थी। तभी उसे सुभाष और राजू नामक दो युवक बोलेरो गाड़ी में डालकर जबरन कोयले की खदानों (बरसिंहसर नेवयली लिग्राइट प्लांट) की ओर ले गये। पहले इन दोनों जनों ने उसके साथ गाड़ी में दुष्कर्म किया। इसके बाद वे उसे बरसिंहसर जीएसएस में ले गये। उसे दो दिन तक वहीं बंधक बनाये रखा गया। इस दौरान वहां सुभाष और राजू ने कईं जनों को बुलाया, जिन्होंने उसके साथ दुष्कर्म किया। पीडि़ता का कहना है कि उसके साथ तीन दिनों में 23 बार दुष्कर्म किया गया। वह 26-27 सितम्बर की रात को मौका पाकर वहां से भाग निकली। कल दोपहर वह जेएनवीसी थाने में गई, जहां उसकी सुनवाई नहीं हुई। अपराह्न एसपी से मिलने पर शाम को पुलिस ने मामला दर्ज किया। पुलिस ने उसका तत्काल मेडिकल करवाया। साथ ही एक पुलिस टीम ने बरसिंहसर जीएसएस पर छापा मारा। जानकारी के अनुसार जिस कमरे में इस युवती को बंधक बनाया हुआ था, उसके अंदर व बाहर कुल 16 इस्तेमाल किये हुए कंडोम बरामद हुए। यह युवती भागते समय इस जीएसएस के कमरे की एक टेबल पर रखे हुए कुछ सरकारी कागजात उठा लाई थी, जिसे पुलिस ने जब्त कर लिया है। बीती रात पुलिस ने छापे मारकर आठ जनों को पकड़ा। इसके साथ ही जेएनवीसी थाने में इस मामले को रफ-दफा करवाने के लिए सफेदपोश लोगों का मेला लग गया। युवती पर समझौता कर लेने का काफी दबाव पड़ा। पुलिस भी सफेदपोश लोगों का ही साथ देती नजर आई। पुलिस का कहना है कि अभी पांच संदिग्धों को राउंडअप किया गया है। आज पीडि़ता के धारा 164 के तहत बयान मजिस्ट्रेट से कलमबद्ध करवाने की कार्रवाई की गई। बकौल पुलिस अभी किसी की गिरफ्तारी नहीं हुई है। यह युवती दिल्ली में अपने पति के साथ मालाएं बनाने का लघु उद्योग भी चलाती है। इस सामूहिक दुष्कर्म के मामले में बीकानेर में जबरदस्त खलबली मचा रखी है।


Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.