अब मैदान अंपायर से दुर्व्यवहार पड़ेगा महंगा, आईसीसी के नए नियम 28 सितंबर से लागू - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Wednesday, September 27, 2017

अब मैदान अंपायर से दुर्व्यवहार पड़ेगा महंगा, आईसीसी के नए नियम 28 सितंबर से लागू

आईसीसी ने क्रिकेट में नए बदलावों को मंज़ूरी देते हुए अंपायर्स को और ज्यादा ताक़तवर बना दिया है। अब मैदान अंपायर से दुर्व्यवहार करने की सूरत में खिलाड़ी को खेल के बीच से ही पवेलियन भेजा जा सकेगा। खेल की बेहतरी के लिए आईसीसी द्वारा बनाए गए कई नए नियम 28 सितंबर से लागू होने वाले हैं।
आईसीसी के खेलने के नियमों में सुधार से अनुचित व्यवहार करने वाले खिलाड़ियों को मैदान से बाहर करना अब क्रिकेट में नियम के रूप में सामने आ रहा है। इस नियम को 28 सितंबर या इसके बाद से शुरू हो रही सभी सीरीज़ में लागू किया जाएगा। इन बदलावों में बल्ले की लंबाई-चौड़ाई की सीमा और डीआरएस में बदलाव शामिल हैं। हालांकि भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रही सीमित ओवरों की श्रृंखला पुराने नियमों के अनुसार ही खेली जाएगी। ये सभी नियम दो आगामी टेस्ट सीरीज़ में प्रभावी होंगे जब दक्षिण अफ्रीका बांग्लादेश की मेजबानी करेगा और पाकिस्तान संयुक्त अरब अमीरात में श्रीलंका से भिड़ेगा। आईसीसी के मुताबिक आईसीसी के खेलने के नियमों में ज्यादातर बदलाव एमसीसी द्वारा घोषित क्रिकेट नियमों के बदलाव के परिणामस्वरूप किए गए हैं। आईसीसी ने हाल में अंपायरों के साथ वर्कशॉप पूरी की है ताकि सुनिश्चित किया जा सके कि वे सभी बदलावों को समझा लें और अंतरराष्ट्रीय मैचों में खेलने के नए नियमों को शुरू करने में कोई दिक्कत न हो। बल्ले और गेंद में संतुलन बनाए रखने के लिये बल्ले के किनारों का आकार और उसकी मोटाई अब सीमित हो जाएगी। आईसीसी ने कहा, बल्ले की लंबाई और चौड़ाई पर रोक बरकरार रहेगी लेकिन किनारे की मोटाई अब 40 मिमी से ज्यादा नहीं हो सकती और इसकी किनारे की पूरी गहराई अधिकमत 67 मिमी ही हो सकती है। अंपायरों को नया बैट गॉज दिया जाएगा, जिससे वे खिलाड़ियों के बल्ले की जांच सकते हैं। खिलाड़ियों के आचरण संबंधी नए नियमों में खिलाड़ी को किसी भी तरह के गलत व्यवहार के लिये मैच के बीच में से मैदान से बाहर भेजा सकता है। इसके अनुसार, मतलब यह है कि यह लेवल चार उल्लघंन में शामिल होगा जबकि लेवल एक से तीन के उल्लघंन आईसीसी आचार संहिता के अंतर्गत ही जारी रहेंगे। इसके मुताबिक, अंपायर को मारने की धमकी, अंपायर के साथ अनुचित और जानबूझकर शारीरिक संपर्क करना, खिलाड़ियों या किसी अन्य व्यक्ति पर शारीरिक रूप से हमला करना और हिंसा का कोई अन्य काम करना सभी लेवल चार के उल्लघंन में शामिल होंगे।

No comments:

Post a Comment