श्रीगंगानगर 



 जिले मेें दूरवर्ती रावला थाना क्षेत्र में आज दोपहर राजस्थान रोडवेज की एक बस ने सामने से आ रहे मोटरसाइकिल को रौंद दिया। मोटरसाइकिल पर सवार एक किशोर तथा एक युवक की मौत हो गई। एक युवती गम्भीर रूप से घायल हो गई। पुलिस ने दुर्घटना कारित करने वाली बस को जब्त कर लिया है। उसके चालक पर लापरवाही बरतने के आरोप में मुकदमा दर्ज किया है। थानाप्रभारी करण सिंह राठौड़ के अनुसार चक 9 बीडी-खाजूवाला निवासी जीतू उर्फ अमरजीत (32) पुत्र दलीप कड़वासरा, सुधीर (15) पुत्र विनोद जाट निवासी रावला और सुधीर की बुआ मंजू (35) पत्नी सुरेन्द्र जाट निवासी चक 9 बीडी-खाजूवाला दोपहर करीब 1 बजे मोटरसाइकिल पर रावला से घड़साना जा रहे थे। इस मार्ग पर 281 हैड की पुलिया के पास हनुमानगढ़ से रावला जा रही रोडवेज की बस के साथ इनकी जबरदस्त टक्कर हो गई। मोटरसाइकिल सामने से बस में टकराया, जिससे मोटरसाइकिल चला रहा अमरजीत और उसके पीछेे बैठा सुधीर दोनों बस के आगे वाले टायर से कुचले गये। बस इन दोनों को मोटरसाइकिल के साथ ही घसीटते हुए काफी दूर तक ले गई। टक्कर लगने से मोटरसाइकिल पर सबसे पीछे बैठी मंजू उछलकर दूसरी तरफ जा गिरी, जिससे उसके भी चोटें आईं। यह हादसा होते ही बस को उसका चालक वहीं छोडक़र भाग गया। इससे पहले कि इन तीनों घायलों को बस के यात्री तथा राहगीर किसी वाहन से अस्पताल भिजवाते, उससे पहले सुधीर और जीतू की मौत हो गई। घायल मंजू को नई मण्डी घड़साना के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। जानकारी के अनुसार जीतू उर्फ अमरजीत के, मंजू और सुधीर के परिवार से पारिवारिक सम्बंध थे। वह इन दोनों को किसी काम से नई मण्डी घड़साना लेकर जा रहा था। इस भयानक सडक़ दुर्घटना का दर्दनाक पहलू यह है कि 15 वर्षीय सुधीर के पिता विनोद ने करीब 15 वर्ष पहले फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली थी। उस समय सुधीर की आयु सिर्फ 6 महीने ही थी। विनोद के पिता, सुधीर के दादा बलवीर महला पर यह भयानक दुर्घटना कहर बनकर टूटी है। पुलिस ने शाम को दोनों मृतकों के शव पोस्टमार्टम करवाने के बाद परिवार वालों को सौंप दिये।

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.