गुरुग्राम-बस कंडक्टर ने हत्या की बात स्वीकार कर ली है. उसने बताया कि वह चाकू साफ करने के लिए टॉयलेट गया था और वहां उसने बच्चे को देखा तो उसके साथ दुष्कर्म की कोशिश की. बच्चा डरकर चिल्लाने लगा तो उसने चाकू से उसका गला रेत दिया. कंडक्टर ने कहा, "मैं चाकू साफ करने टॉयलेट गया था. बच्चे को देखा तो बुद्धि भ्रष्ट हो गई. मुझे अफसोस है. मैं हर सजा के लिए तैयार हूं."
वरुण ने बताया कि वह बच्चे को स्कूल छोड़ने के बाद घर पहुंचे ही थे कि उनके पास स्कूल से फोन आया कि वह बहुत ब्लीड कर रहा है. उन्हें तुरंत अस्पताल पहुंचने के लिए कहा गया. जब तक वह स्कूल पहुंचे तब तक डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था. आरोपी कंडक्टर का नाम अशोक कुमार है. वह करीब 8 महीने से स्कूल में काम कर रहा था.
बता दें कि शुक्रवार सुबह गुरुग्राम के रायन इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ने वाला प्रद्युम्न ठाकुर वॉशरूम में खून से लथपथ मिला था. उसका गला चाकू से कटा हुआ मिला था. स्कूल द्वारा बच्चे को तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया, लेकिन डॉक्टरों ने बताया कि अस्पताल पहुंचने से पहले ही उसकी मौत हो गई थी.

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.