टैक्स न चुकाना पड़ा विधायिका मैडम को महंगा - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Monday, September 25, 2017

टैक्स न चुकाना पड़ा विधायिका मैडम को महंगा

श्रीगंगानगर की जमींदारा पार्टी से संबंधित है विधायिका कामिनी जिन्दल
आयकर विभाग ने कार्रवाई करते हुए किए पांच बैंक अकाउंट अटैच्ड
विधायिका मैडम ने नहीं चुकता किया सवा दो करोड़ का वैल्थ टैक्स
श्रीगंगानगर
 
श्रीगंगानगर से जमींदारा पार्टी की विधायक कामिनी जिन्दल को टैक्स चुकता न करना महंगा पड़ गया है तथा आयकर विभाग ने उन पर शिकंजा कस दिया। बताया जा रहा है कि आयकर विभाग का कामिनी जिन्दल की तरफ लगभग सवा 2 करोड़ का वैल्थ टैक्स बकाया है, जिसकी वसूली के लिए विधायिका को विभाग की ओर से बार-बार नोटिस भी भेजे जा रहे थे। विधायक ने नोटिस का जवाब तो दिया, लेकिन यह टैक्स नहीं चुकाया बल्कि नोटिसों के खिलाफ विधायिका ने आयकर विभाग के उच्चाधिकारियों के समक्ष अपील दायर कर रखी है। नियमानुसार अपील दायर करने पर भी विधायिका कामिनी जिन्दल ने बकाया टैक्स की 20 प्रतिशत राशि आयकर विभाग को जमा नहीं करवाई। आयकर विभाग के उच्च पदस्थ सूत्रों के मुताबिक विभाग के बीकानेर स्थित प्रिंसीपल कमिश्नर के आदेश पर सोमवार को स्थानीय अधिकारियों ने विधायक कामिनी जिन्दल के पांच पर्सनल बैंक अकाउंट को अटैच्ड कर दिया।

जानकारी के अनुसार विधायक कामिनी जिन्दल के यह पांच अकाउंट पंजाब नेशनल बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया, यूनियन बैंक, एक्सिस बैंक और ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में है। विभागीय सूत्रों ने बताया कि कामिनी जिन्दल की तरफ वर्ष 2014-15 से कुल मिलाकर 2 करोड़ 23 लाख से अधिक का वैल्थ टैक्स बकाया है, जिसे चुकता करने के लिए कईं बार नोटिस दिये गये। उन्होंने नोटिसों का जवाब तो दिया, लेकिन टैक्स नहीं चुकाया। इन्हीं सूत्रों के अनुसार विधायक कामिनी जिन्दल की ओर से यह टैक्स चुकाने में कथित रूप से असमर्थता व्यक्त की गई है। दूसरी ओर उन्होंने टैक्स कैलकुलेशन को गलत बताते हुए उच्चाधिकारियों के समक्ष अपील की है। इस अपील पर किसी तरह का कोई स्थगन आदेश विधायक को प्राप्त नहीं हुआ है। विभागीय सूत्रों ने बताया कि केन्द्रीय प्रत्यक्षकर बोर्ड (सीबीडीटी) के स्पष्ट नियम हैं कि इस तरह के प्रकरणों में अपील किये जाने के साथ टैक्स की 20 प्रतिशत राशि विभाग को जमा करवानी होगी। विधायक कामिनी जिन्दल ने यह 20 प्रतिशत राशि भी विभाग को जमा नहीं करवाई है। इसीलिए विभाग ने बकाया करीब सवा 2 करोड़ के वैल्थ टैक्स की वसूली करने के लिए उनके बैंक अकाउंट्स को अटैच्ड करने की कार्रवाई की है। इन्हीं सूत्रों के अनुसार विभाग ने पांचों बैंक अकाउंट्स का सम्बन्धित बैंकों से विवरण प्राप्त कर लिया है। इन खातों मेें कुल मिलाकर जो राशि है, वह सवा 2 करोड़ से कम है। खातों में जो भी राशि है, उसे आयकर विभाग के खाते में ट्रांसफर करने के निर्देश बैंकों को दिये गये हैं। इन खातों में और राशि जमा होने पर, वह भी आयकर विभाग को स्थानांतरित करनी होगी। जब विभाग के  सवा 2 करोड़ रुपये पूरे हो जायेंगे, उसके बाद इन खातों में आई हुई रकम को ट्रांसफर नहीं किया जायेगा। विभागीय सूत्रों ने बताया कि यह वैल्थ टैक्स कामिनी जिन्दल की तरफ उनकी व्यक्तिगत आय का बकाया है।


No comments:

Post a Comment