Type Here to Get Search Results !

मजबूरी में और करे भी तो क्या ...




ये है असल में हौसलों की उडान लाचार होकर बैठने के बजाय चुनी मजदूरी की राह मांगकर गुजर बसर करने वालों को लेनी चाहिए प्रेरणा मेहनत से अरमानों को पूरा करने की तमन्ना अबला नहीं सबलाए हौसले को सलाम.

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.