‘चुनाव जीतने के लिए बूथों पर छा जाओ’- अलवर में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Monday, October 09, 2017

‘चुनाव जीतने के लिए बूथों पर छा जाओ’- अलवर में भाजपा प्रदेश कार्यसमिति की बैठक

 चुनाव प्रचार को शुरू करने पर हुई खुलकर चर्चा

अलवर (अमरजीत जावा)

 
 प्रदेश में विधानसभा चुनाव को करीब एक वर्ष का समय शेष रहते सत्तारूढ़ भाजपा फिर से सत्ता में आने के लिए अपनी चुनावी रणनीति को शुरू करने पर आ गई है। सोमवार को अलवर में भाजपा की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक में चुनाव प्रचार शुरू करने को लेकर वरिष्ठ पदाधिकारियों ने खुलकर विचार रखे। उन्होंने प्रदेशभर से आये हुए कार्यसमिति के पदाधिकारियों, सदस्यों, जिलाध्यक्षों, मोर्चांेे-प्रकोष्ठों के प्रदेशाध्यक्षों से स्पष्ट रूप से कहा कि भाजपा को फिर से सत्ता में लाने के लिए वे एक-एक बूथ पर छा जायें। बूथ जीता-चुनाव जीता, इस गुरुमंत्र को अपने मन-मस्तिष्क में बिठा लें। इसी से ही पार्टी फिर से सत्ता में आयेगी। कार्यसमिति की इस बैठक में मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे, प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी, राष्ट्रीय सहसंगठन महामंत्री वी.सतीश, राष्ट्रीय सहप्रभारी गोपाल सेठी, प्रदेश संगठन महामंत्री चंद्रशेखर, गृहमंत्री गुलाबचंद कटारिया ने अपने विचार रखे। केन्द्रीय मंत्री अर्जुन मेघवाल और पूर्व मंत्री निहालचंद मेघवाल सहित लगभग पौने 300 पदाधिकारी-सदस्य, जिलाध्यक्ष, मोर्चांे-प्रकोष्ठों के प्रदेशाध्यक्ष इस बैठक में सम्मिलित हुए। हासिल जानकारी के अनुसार वक्ताओं ने कहा कि अब तक केन्द्र व राज्य सरकार ने किसानों के लिए जिन योजनाओं को शुरू किया है, उन्हें किसानों तक पहुंचाने के लिए वे गांवों की चौपालों तक जायें। ग्राम पंचायतों में चौपाल कार्यक्रम कर इन योजनाओं का प्रचार-प्रसार करें। राजस्थान में ही नहीं, बल्कि देशभर में किसान संगठनों द्वारा स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करने के लिए किये जा रहे आंदोलनों के संदर्भ में वक्ताओं ने कहा कि इस रिपोर्ट के अधिकांश हिस्से को लागू किया जा चुका है। इस रिपोर्ट को जितना अधिक से अधिक लागू किया जा सकता था, उसे लागू कर किसानों को फायदा दिया जा रहा है। राजस्थान में इस बार 26 प्रतिशत फसलों का उत्पादन बढ़ा है, जो समूचे देश में अपने आपमेें एक रिकॉर्ड है।


इसी तरह सहकारिता के तहत अन्य राज्यों की तुलना में राजस्थान के किसानों को बिना ब्याज के सबसे ज्यादा ऋण दिये गये हैं। प्रदेश में प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र मेें अब तक के चार वर्ष के शासन में औसतन छह-छह सौ करोड़ के विकास कार्य करवाये गये हैं। यह बातें किसानों सहित सभी वर्ग के लोगों तक पहुंचाने के लिए विधानसभा क्षेत्रवार बुकलेट्स प्रकाशित करवाकर उन्हें बूथ विस्तारकों के जरिये वितरित करवाया जाये। जीएसटी कौंसिल ने हाल की बैठक में जिन वस्तुओं पर जीएसटी कम किया है, उनमें अधिकांश वस्तुएं राजस्थान के संदर्भ में महत्व रखती हैं। इन वस्तुओं पर जीएसटी कम करवाने  के लिए राज्य सरकार ने ही अनुशंसनात्मक रिपोर्ट केन्द्र को भेजी थी। केरल में हिन्दुवादी संगठनों के पदाधिकारियों-कार्यकर्ताओं की हो रही हत्याओं तथा उन पर किये जा रहे हमलों पर वक्ताओं ने आक्रोश जताया। इस सम्बंध में आगामी 13 या 16 अक्टूबर को जिला मुख्यालयों पर भाजपा की ओर से पुतला फूंक प्रदर्शन किये जायेंगे। इस बैठक में श्रीगंगानगर के क्षेत्रीय सांसद एवं प्रदेश उपाध्यक्ष निहालचंद मेघवाल, खनिज मंत्री सुरेन्द्रपाल सिंह टीटी, प्रदेश मंत्री हरभगवान सिंह बराड़, जिलाध्यक्ष हरीसिंह कामरा, प्रदेश सदस्य महेन्द्र सिंह सोढ़ी, अजा-जजा मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. ओपी महेन्द्रा, मीडिया प्रभारी आदित्य बवेजा आदि ने भी शिरकत की। कार्यसमिति की बैठक के बाद मुख्यमंत्री, प्रदेशाध्यक्ष व दूसरे बड़े नेताओं ने सिर्फ जिलाध्यक्षों के साथ अलग से बैठक की, जो देर रात समाचार लिखे जाने तक जारी थी। इस बैठक में विस्तारक योजना के तहत लग रहे पदाधिकारियों को आगे की जिम्मेवारी सौंपने सम्बंधी चर्चा हो रही है।

No comments:

Post a Comment