पूरी खबर पटाखों की दूकान में आग, प्रशासन के नाक तले पटाखों के स्टोरेज का ख़ुलासा - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Thursday, October 05, 2017

पूरी खबर पटाखों की दूकान में आग, प्रशासन के नाक तले पटाखों के स्टोरेज का ख़ुलासा

वीडियो न्यूज़ जल्द, 

 शहर के व्यस्ततम बाजार के तौर पर जाने जाती तुलसीराम स्ट्रीट में पटाखों के जखीरों के रूप में बने तीन गोदामों में से एक में वीरवार को फूटी छोटी सी चिंगारी ने शहर भर में हडक़ंप मचा दिया। हालांकि गनिमत रही कि समय रहते आग का पता चल गया तथा काबू पा लिया गया, अन्यथा आस पास में बने गोदामों को देखते हुए आग बढ़ जाती तो संगरूर में हुई घटना जैसे भयावह हादसे से इंकार नहीं किया जा सकता।
 गौरतलब है कि संगरूर में पटाखों के गोदाम में हुए धमाके में 11 लोगों की जान जाने के बावजूद स्थानीय जिला प्रशासन ने कोई सबक लेना मुनासिब नहीं समझा। आखिरकार वही हुआ, जिसका भय था। जानकारी के अनुसार वीरवार की शाम को तुलसी राम स्ट्रीट स्थित बत्रा ट्रेडिंग कंपनी के  पटाखों के गोदाम में आग लग गई। हालांकि आग पर तुरंत प्रभाव से हरकत में आए दुकान मालिक और उनके कारिंदों ने काबू पा लिया, लेकिन व्यस्ततम बाजार तथा रिहायसी क्षेत्र होने के चलते आग बुझ जाने के बावजूद लोगों की सांसे अटकी हुई हैं। यदि खुदा ना खास्ता आग ज्यादा जोर पकड़ लेती तो भारी नुकसान तो हो ही सकता था, अभी भी पटाखों के लगे कथित जखीरों को लेकर प्रशासन न चेता तो किसी अनहोनी से इंकार नहीं किया जा सकता। सूत्र बताते हैं कि शहर में उक्त तुलसी राम स्ट्रीट में ही जहां तीन पटाखों के बड़े गोदाम हैं वहीं घास मंडी चौक, दुर्गा मंदिर वाली गली तथा माल गोदाम रोड पर भी एक एक गोदाम है। प्रशासन द्वारा बार बार चेतावनी की खानापूर्ति का दुकानदारों पर कोई प्रभाव न होना सियासी दबाव के कारण भी हो सकता है, जिसके चलते जिला प्रशासन आंखें मूंदे बैठा है। हालांकि बीते दिनों फायर ब्रिगेड ने भी करीब आधा दर्जन पटाखा बेचने वालों को एनओसी लेने के लिए नोटिस जारी किए, लेकिन इसकी भी किसी ने परवाह करना मुनासिब नहीं समझा। यही नहीं सूत्र तो यह भी बताते हैं कि पटाखा विक्रेता और स्टोर करने वालों की एसडीएम राजपाल सिंह द्वारा बुलाई गई बैठक में भी उनके और फायर ब्रिगेड अधिकारी चिमन लाल के अलावा कोई नहीं आया। डीसी डॉ. सुमीत जारंगल ने कहा कि टीम भेज कर जांच के बाद कार्रवाई की जाएगी। 


प्रशासन के नाक तले पटाखों के  स्टोरेज का ख़ुलासा


No comments:

Post a Comment