रविवार को करवा चौथ पर पत्नियों ने दिन भर व्रत रख कर अपने पतियों की लंबी ऊमर की कामना की। दोपहर को महिलाओं ने करवा चौथ व्रत कथा सुनी और करवा चौथ पूजन की रस्मों में भाग लिया। शहर में करवा चौथ पर्व को लेकर खूब रौनक लगी रही। हलवाइयों की दुकानों पर भी व्रत में इस्तेमाल होने वाली म_ियां, फैनियां व मिठाई खरीदने वालों की भीड़ लगी हुई थी। गौरतलब है कि करवा चौथ की पूर्व संध्या पर महिलाओं ने त्योहार मनाने की तैयारियां कर ली थी। महिलाओं द्वारा पिछले एक-दो दिनों से सजने-संवरने पर ही जोर दिया जा रहा था। करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि में किया जाता है। महिलाएं पति के मंगल एवं दीघार्यु की कामना के लिए निर्जला रहकर इस व्रत को रखती हैं। चंद्रमा को अर्घ्य देकर व्रत पूरा माना जाता है। इस दिन महिलाएं पूरे दिन उपवास रखती हैं और शाम को पूजन करने के बाद चांद और फिर पति को छलनी में से देखने के बाद जल ग्रहण करती हैं।
यह पर्व चांद के दर्शन से जुड़ा है और चंद्रमा का उदय रात आठ बजे के बाद होगा। करवा चौथ के मौके पर आपके शहर में चांद कब दिखाई देगा यह आप यहां जान सकते हैं। उत्तर भारत में गाजियाबाद में चंद्रमा के दर्शन रात 8.30 बजे किए जा सकेंगे। लखनऊ में 8.35 बजे, देहरादून में 8.32 बजे, आगरा में 8.35 बजे और चंडीगढ़ में 8.42 बजे चांद देखा जा सकेगा। भोपाल में रात 8 बजकर 34 मिनट पर चांद दिखाई देगा। अहमदाबाद में 8.45 बजे, मुंबई में 8.35 बजे और पुणे में 8.30 बजे चांद के दर्शन करके महिलाएं व्रत समाप्त कर सकेंगी। उधर पूर्वोत्तर में गुवाहाटी के आसमान में रात 8.40 बजे चांद आएगा। कोलकाता में 8.35 बजे और पटना में 8 बजकर 30 मिनट पर चंद्रमा के दीदर किए जा सकेंगे। दक्षिण भारत में चेन्नई में रात 8.30 बजे और बेंगलुरु में भी 8.30 बजे चंद्रमा के दर्शन हो सकेंगे। करवा चौथ पर पूजन के लिए शाम 5.55 बजे से 7 बजकर 9 मिनट तक पूजन करने का मुहूर्त है। इस पूजन के बाद चंद्रमा के उदित होने पर व्रत समाप्त होगा।

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.