200 एकड़ में होगा एम्स, जिसमें 750 बेड की सुविधा - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Tuesday, October 03, 2017

200 एकड़ में होगा एम्स, जिसमें 750 बेड की सुविधा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर में एम्स की आधारशिला रखी। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान अस्पताल के खुल जाने से प्रदेश, पंजाब सहित आसपास के इलाकों को काफी सुविधा होगी। बिलासपुर में बनने वाले एम्स से इस पहाड़ी राज्य के साथ-साथ आसपास के राज्यों को तो फायदा होगा ही साथ ही ये हिमाचल के विकास में निश्चित तौर पर मील का पत्थर भी साबित होगा। बिलासपुर रोड पर बनने वाला एम्स 200 एकड़ में फैला होगा, जिसमें 750 बेड की सुविधा होगी। यहां मेडिकल के साथ-साथ नर्सिंग की पढ़ाई भी होगी। बिलासपुर में एम्स के निर्माण पर 1350 करोड़ रुपये का खर्च आने का अनुमान है। पीएम मोदी ने ऊना सालोह में भारतीय सूचना प्रौद्योगिकी यानि आईआईआईटी और कांगड़ा स्टील प्लांट का शिलान्यास किया। इसी के साथ प्रधानमंत्री ने प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के लिए डिज़िटल नर्व सेंटर का भी उद्घाटन किया। नर्व सेंटर के ज़रिए प्राथमिक स्वास्थ्य सेवाओं का रिकार्ड भी डिज़िटल होगा। इससे लोगों के लिए स्वास्थ्य सेंवाऐ टेलीमेडिसिन के ज़रिए या किसी दूसरे विशेषज्ञ से लेनी आसान होंगी। इस मौक़े पर प्रदेश के राज्यपाल आचार्य देवव्रत और मुख्यमंत्री वीरभद्र भी मौजूद रहे। हिमाचल को मिल रही इस बड़ी सौगात की कुल लागत 1,351 करोड़ रुपये होगी। इसका क्षेत्रफल 205 एकड़ का होगा। राज्य की स्वास्थ्य सेवाओं की तस्वीर बदलने वाली ये परियोजना सिर्फ 4 साल में तैयार हो जाएगी। अस्पताल में 15 शल्य चिकित्सा केंद्र भी होंगे। साथ ही अस्पताल में मेडिकल कॉलेज होगा जिसमें हर बैच में 100 विद्यार्थी होंगे तो नर्सिंग कॉलेज में हर बैच में 60 विद्यार्थी होंगे। राज्य को मिल रहे इस ख़ास तोहफे को लेकर क्षेत्र के लोगों में खासा उत्साह है। बिलासपुर के कोठीपुरा में बनने वाला ये एम्स देश में 8वां एम्स होगा। स्वास्थ्य क्षेत्र में मई 2014 में शुरू हुआ सफल सफर आज तेज़ी से आगे बढ़ रहा है। सरकार का लक्ष्य 2020 तक 5 एम्स बनाने का है तो अगले 5 एम्स 2021 तक बनाने का लक्ष्य तय किया गया है। बिलासपुर में बनने वाले इस एम्स से इस पहाड़ी राज्य के साथ-साथ आसपास के राज्यों को तो फायदा होगा ही साथ ये हिमाचल के विकास में निश्चित तौर पर एक मील का पत्थर भी साबित होगा।

No comments:

Post a Comment