क्या आप जानते हैं 1 किलोमीटर चलने में कितना डीजल खाती है ट्रेन? जवाब जानकर उड़ जाएंगे होश - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Tuesday, November 07, 2017

क्या आप जानते हैं 1 किलोमीटर चलने में कितना डीजल खाती है ट्रेन? जवाब जानकर उड़ जाएंगे होश



भारत का विकास रेलगाड़ी की वजह से तेज गति से हुआ है. भारतीय रेलवे भारत के यातायात का एक प्रमुख साधन है. रेलगाड़ी के कारण ही बहुत सारे लोग एक साथ बहुत लंबी-लंबी दूरियां तय कर सकते हैं. इसका किराया भी कम होता है. ट्रेन में एक विशाल इंजन लगा हुआ रहता है जो काफी शक्तिशाली होता है.
ट्रेन बहुत सारे डिब्बों को एक साथ खींच सकता है और काफी तेज चल सकता है. ट्रेन का इस्तेमाल सिर्फ यात्रियों के आवागमन के लिए ही नहीं बल्कि भारी-भारी सामानों को ढोने के लिए भी किया जाता है. ट्रेन में लोग आराम से सफर करते हैं.

पहले के जमाने में जहां एक जगह से दूसरी जगह जाने में हफ्ते लग जाते थे, अब वहीं दूरियां ट्रेन की वजह से कुछ घंटों में तय कर सकते हैं. रेलगाड़ी के कारण ही बहुत सारे गांव और शहर एक दूसरे से जुड़ पाए. भारत कि तरक्की में ट्रेन का एक महत्वपूर्ण योगदान है.

लोग ट्रेन में सफर तो करते हैं, पर क्या आपने कभी ट्रेन की एवरेज के बारे में सोचा है? अपनी पर्सनल गाड़ी चलाने पर हम एवरेज का बहुत ख्याल रखते हैं. हर वक्त हमारी नजरें पेट्रोल के कांटे पर टिकी हुई होती हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं एक रेलगाड़ी को एक किलोमीटर चलने के लिए कितना डीजल चाहिए? शायद आपने इस बारे में कभी सोचा न हो. कोई बात नहीं, हम आज आपको बताएंगे कि एक किलोमीटर चलने के लिए एक ट्रेन को कितने लीटर डीजल की आवश्यकता पड़ती है.

एक किलोमीटर चलने पर कितना डीजल लगता है इस बात का अंदाजा लगाना आमतौर पर मुश्किल है. लेकिन काफी रिसर्च करने के बाद इस बात का जवाब मिल चुका है. कोरा पर राजन प्रधान नाम के एक व्यक्ति ने बताया कि एक रात वह औरंगाबाद के स्टेशन पर ट्रेन का इंतजार कर रहे थे. वहां पर उन्होंने देखा कि ट्रेन का ड्राइवर ट्रेन के इंजन को खुला छोड़कर चाय-पानी पीने चला गया. उस वक्त मेरे मन में सवाल आया कि क्या ट्रेन डीजल नहीं खाती, जो ये लोग उसे बंद किए बिना चले जाते हैं?

दूसरा सवाल यह आया कि ट्रेन आखिर कितना एवरेज देती है? वह व्यक्ति जहां नाश्ता कर रहा था वहीं पर लोको पायलट भी नाश्ता करने आया. फिर उसने उससे आखिर पूछ ही लिया कि वह इंजन को चालू छोड़कर क्यों आया है और क्या उसमें डीजल नहीं लगता?

सवाल सुनकर लोको पायलट जिसका नाम पवन कुमार था और ग्वालियर का रहने वाला था, ने कहा कि ट्रेन के इंजन को बंद करना तो आसान है पर इसे चालू करना बहुत मुश्किल होता है. इसे दोबारा चालू करने में कम से कम 25 लीटर डीजल खर्च हो जाता है. वहीं ट्रेन कि बात करें एक किलोमीटर चलने कि तो यह एक किलोमीटर चलने में 15 से 20 लीटर डीजल खाता है. उसके द्वारा दी गई यह जानकारी बहुत महत्वपूर्ण थी.

No comments:

Post a Comment