Type Here to Get Search Results !

स्कूली बच्चों को अगले अकादमिक सैशन शुरू होने से पहले 28 फरवरी तक मिलेगी किताबें और वर्दी



 शिक्षा मंत्री अरुणा चौधरी ने विधानसभा में विधायकों के शंकाओं को दूर करते मानक शिक्षा के लिए क्रांतिकारी कदम उठाने की बात कही


पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (संशोधित) 2017 बिल हुआ के पास


चंडीगड़, 29 नव बर:

पंजाब के सरकारी स्कूलों के विद्यार्थियों को अगले अकादमिक सैशन से पहले 28 फरवरी 2018 तक किताबें और वर्दी मिलेगी। यह बात शिक्षामंत्री श्रीमती अरुणा चौधरी ने पंजाब विधानसभा के सैशन दौरान बोलते हुये कही। शिक्षा मंत्री ने सैशन दौरान पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (संशोधित) 2017 बिल पर बहस के मौके पर कई विधायकों द्वारा उठाए गई शंकाओं को दूर करते हुये कही। शिक्षा मंत्री ने अपनी तर्क में हर विधायक द्वारा उठाए गए मुद्दो का तथ्यों सहित विस्तार में जवाब दिया।
 श्रीमती चौधरी ने कहा कि मु यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के नेतृत्व अधीन पंजाब सरकार द्वारा मानक शिक्षा के लिए क्रांतिकारी कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारा इस विद्यार्थियों को समय से पहले पुस्तकें और वर्दियाँ देने पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है और अगला शैक्षिक सैशन शुरू होने से पहले 28 फरवरी 2018 तक विद्यार्थियों को पुस्तकें और वर्दिया मिल जाएंगी।

शिक्षा मंत्री ने कहा कि प्राथमिक शिक्षा का स्तर ऊँचा उठाने के लिए पंजाब सरकार ने प्री-प्राईमरी कक्षाएं शुरू करके क्रांतिकारी कदम उठाया है और यह कदम उठाने वाला पंजाब देश का पहला राज्य बन गया है। उन्होंने कहा कि अब 3 से 6 वर्ष तक के बच्चे भी सरकारी स्कूलों में प्री-प्राईमरी कक्षाएं  में दाखि़ला ले सकेंगे। इससे पहले 6 वर्ष से छोटे बच्चे प्राईवेट स्कूलों में दाखि़ला लेने या घर बैठने को मजबूर थे।

विधायकों द्वारा प्राईवेट स्कूलों की मनमानियों संबंधी उठाए मुद्दो का जवाब देते हुये श्रीमती चौधरी ने कहा कि रेगुलेटरी अथॉरटी अपना काम कर रही है और यदि कोई भी स्कूल 8 प्रतिशत से अधिक फ़ीसों में वृद्धि करता है तो माता पिता या विद्यार्थी डिवीजऩ स्तर पर कमिशनर के पास शिकायत कर सकते हैं। विरोधी पक्ष के विधायक द्वारा 800 स्कूल बंद करन के मुद्दे  पर बोलते उन्होंने कहा कि ऐसी बयानबाज़ी उनको शोभा नहीं देती है। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा 20 से कम विद्यार्थियों वाले सिफऱ् ऐसे स्कूल पास के स्कूल में मजऱ् किये जा रहे हैं जिनके एक किलोमीटर के घेरे अंदर कोई अन्य प्राथमिक स्कूल नहीं है। उन्होने कहा कि पंजाब में कई स्कूल ऐसे हैं जिनमें में 5 या इस से भी कम विद्यार्थी हैं। उन्होंने कहा कि रचनात्मक शैक्षिक माहौल के लिए कम से -कम 20 विद्यार्थियों का होना ज़रूरी है।

अध्यापकों की भर्ती संबंधी बोलते शिक्षा मंत्री ने कहा कि कुछ समय पहले 1600 अध्यापकों की भर्ती की गई है और अन्य 3582 अध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया अधीन है। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारो आगामी दिनों में अध्यापकों की रैशनेलाईजेशन की जा रही है जिसके साथ यह पता लगेगा कि कहां अध्यापकों की कहां कमी है और कहां अध्यापकों की पोस्टिंग ज़रूरत से अधिक हुई है। उन्होंने यह भी कहा कि सीमावर्ती क्षेत्र के स्कूलों में अध्यापकों की कमी दूर करने के लिए अलग सीमावर्ती क्षेत्र काडर बनाने का प्रस्ताव है। उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा अस्थाई ड्यिूटियों भी रद्द की गई हैं जिससे अध्यापकों की कमी पूरी की जा सके। उन्होंने कहा कि शिक्षा विभाग द्वारो तरक्कियों में आई रुकावट को ख़त्म करते हुये अध्यापकों की तरक्कियाँ की जा रही हैं।

पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड (संशोधित) 2017 बिल संबंधी बोलते कहा शिक्षा मंत्री ने कहा कि पिछली सरकार द्वारा व्यक्ति विशेष को लाभ देने के लिए सीनियर वाइस चेयरमैन का नया पद बनाया गया था जिसकी कोई ज़रूरत नहीं थी। संशोधन के साथ अब इस पद को ख़त्म कर दिया गया है क्योंकि बोर्ड में पहले ही चेयरमैन, वाइस चेयरमैन और सचिव का पद काम कर रहा है। इसी तरह दूसरी संशोधन के साथ बोर्ड के चेयरमैन के लिए 15 वर्ष के तजुर्बो की योग्यता को फिर बहाल कर दिया गया है।

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

CRYPTO CURRENCY