आज भी कैमरे के सामने जाकर नर्वस हो जाती हूँ - रति पांडे - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Tuesday, November 28, 2017

आज भी कैमरे के सामने जाकर नर्वस हो जाती हूँ - रति पांडे


ऐतिहासिक शो बनाने के लिए प्रसिद्ध स्वास्तिक प्रोडक्शन के फाउंडर निर्माता-निर्देशक सिद्धार्थ कुमार तिवारी ‘महाभारत’ की अपार सफलता के बाद भारत के प्रथम रक्षक महान योद्धा पोरस की गाथा को छोटे पर्दे पर पेश कर रहे हैं। 350 ईसापूर्व के महान योद्धा पोरस की दास्तां पर आधारित शो ‘पोरस’ में महारानी अनुसूइया व पोरस की मां का किरदार निभा रही हैं अदाकारा रति पांडे। ये शो उन दिनों की बातों पर आधारित है जब भारत दुनिया के सबसे अमीर देशों में एक हुआ करता था। भारत को सोने की चिडिय़ा कहा जाता था। ‘पोरस’ उसी गौरवशाली दौर व समय की कहानी है। शो में उस समय का माहौल बनाने के लिए टीम ने काफी मेहनत की है। इतने वर्ष पुराने योद्धाओं के वस्त्रों व आभूषणों को उस दौर के अनुरूप दिखाने की कोशिश की गई है। शो में अपने किरदार के साथ इंसाफ करने के लिए अदाकारा रति पांडे को भारी-भरकम आभूषणों के साथ समझौता करना पड़ा है। महारानी का किरदार होने के चलते घंटों काफी भारी-भरकम आभूषण पहनने पड़ रहे हैं। करीब 20 किलो वजन के स्टोन वाले आभूषण पहन शूट करना पड़ रहा है। पहले तो इन आभूषणों के चलते उन्होंने शो करने से मना तक कर दिया था, क्योंकि शूट दौरान ये आभूषण बहुत चुभते भी हैं। मगर निर्माता-निर्देशक सिद्धार्थ कुमार तिवारी द्वारा उन्हें यह रोल करने पर जब जोर डाला गया तो उन्होंने आडिशन दिया। आडिशन दौरान जब खुद को आभूषणों सहित महारानी के गैटअप में देखा तो काफी अच्छा लगा। महारानी अनुसूइया के किरदार के लिए तैयार होने में ही करीब दो से ढ़ाई घंटे लगते हैं। रति ने बताया कि आज भी हर शो की शुरुआत में वह कैमरे के सामने जाकर नर्वस हो जाती हैं। रति बताती हैं कि वह कभ किसी और को कॉपी नहीं करती बल्कि खुद के किरदार में नयापन डालने की कोशिश करती हैं। रति पांडे ने बताया कि बचपन में वह महारानी बनने का सपना देखती थी। असल जीवन में न सही मगर आज छोटे पर्दे पर महारानी बन गई हैं। रति पांडे ने अनुभव सांझे करते हुए कहा कि दो वर्ष के अंतराल बाद वह अभिनय जगत में वापसी कर रही हैं। वह ऐसा एतिहासिक किरदार पहली बार निभा रही है। महारानी अनुसूइया का किरदार ऐसी पावरफुल महिला का किरदार है जो भारत को एकता के सूत्र में बांधे रखना चाहती है। यह किरदार त्याग की मूर्ति है।

-  जगदीश जोशी

No comments:

Post a Comment