कैप्टन व मनप्रीत की वित्‍तीय अनियमि‍तताओं के कारण पंजाब सरकार दिवालिया होने के कगार पर - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Tuesday, November 28, 2017

कैप्टन व मनप्रीत की वित्‍तीय अनियमि‍तताओं के कारण पंजाब सरकार दिवालिया होने के कगार पर


484 स्कूलों में  3200 अध्यपको को जो कैप्टन सरकार जून से वेतन नही  दे सकी वो विद्यार्थियों को  मोबाइल का वादा  कैसे पूरा करेगी : तरुण चुघ

 

कहा,  3 करोड़  में से 1.42 करोड़   आटा दाल स्कीम वाले दुखी हैं , 7 लाख मुलाजिम पेंशनर व 19 लाख सोशल सिक्योरिटी न मिलने से हैं दुखी




भारतीय जनता पार्टी  के रास्ट्रीय मंत्री तरुण चुघ ने पंजाब की कैप्टन अमरिंदर सिंह नेतृत्व की कांग्रेस सरकार को पंजाब को आर्थिक संकट  में डालने  वाली निकमी सरकार बताते हुए कहा कि 3.95 लाख मुलाजिमों ओर 3 लाख पेंशनेरो के पैंशन व DA के   2773 करोड़ , गरीब लड़कियों की शादी का शगुन का आशीर्वाद  स्कीम के रखे 200 करोड़ का फंड जारी न होना , आटा दाल स्कीम में चायपत्ती  के लिए रखा 150 करोड़ रुपया अतरिक्त फंड व 484 स्कूलों में 3200 अध्यापको  जून से तनखाह नही मिलना आदि से  कैप्टेन व मनप्रीत  की वितीय अनियमतायें के कारण पंजाब सरकार दिवालिया होने के कगार पर  है ।

चुघ ने कहा कि जो 484 स्कूलों में  3200 अध्यपको को जो कैप्टन सरकार जून से तनखाह नही  दे सकी वो विद्यार्थियों को  मोबाइल का वायदा  कैसे पूरा करेगी । जो सरकार मुलाजिमों व पेंशनेरो की DA की 2 बकाया किश्ते नही दे सकी , विधवा, बुढापा व अपंग पेंशन  नही दे पा रही उस कैप्टेन सरकार से  विकास कैसे संभव है।

चुघ ने कहा कि पूरा पंजाब इस सरकार की कारगुजारी से नाखुश है पंजाब की कुल आबादी लगभग 3 करोड़  है उसमें से 1.42 करोड़  लोग आटा दाल स्कीम को पूरी तरह न लागू करने से दुखी हैं , 7 लाख मुलाजिम पेंशनर व 19 लाख सोशल सिक्योरिटी न मिलने से  दुखी हैं ।

चुघ ने कहा कि कैप्टेन ने पंजाब के किसानों का लगभग 90000 करोड़ का कर्जा माफ करने का वायदा किया था  उस मे से 9500 करोड़ माफ करने का नोटिफकेशन ही हुआ है  वो 9500 करोड़  में से 1 कोड़ी भी किसान भाइयों को नही मिली है 300 से ज्यादा  किसान  आत्महत्या कर चुके हैं बैंको ने पंजाब के किसानों को कर्ज देने बंद कर दिया है । ऐसी विकट परिस्थितियों से पंजाब निकल रहा है।

चुघ ने पंजाब की कैप्टन की कांग्रेस सरकार  से मांग की की  कोरी बयानबाजी व फि‍जूल खर्ची, से परहेज कर   उपरोक्‍त  वित्‍तीय संकट से पंजाब को निकालने के लिए अपने गैर जरूरी व झूठ की घोषणाओं को कम कर जनहितैषी योजनायों को गरीबो तक पुहंचाने का प्रयास करे ।

BJP slams Amarinder, Manpreet for fiscal failure

Chandigarh , November 28, 2017-
Bharatiya Janata Party (BJP) has slammed Chief Minister Capt Amarinder Singh and Finance Minister Manpreet Singh Badal for what it termed as fiscal failure in the state.

BJP National Secretary Tarun Chugh said that Capt Amarinder Singh-led government was heading the state towards financial bankruptcy due to his incapability as a Chief Minister and Manpreet Badal's flawed financial policies.

Alleging that both the Congress leaders have plunged the state into a financial mess, Chugh said while 3.95 lakh employees and pensioners were waiting for Rs.2773-crore DA and Pensions due to them the families of girls who qualify for Shagun Scheme were kept waiting as the government could not release Rs.200-crore funds required for the scheme.

The BJP leader said that while the government had promised the beneficiaries of Atta-Dal Scheme that they would also be getting tea and sugar, they were not getting what they used to during the SAD-BJP regime.

He said that the government which had promised free Smartphones to the youth had not been able to give salaries to more than 3,200 School Teachers from 484 Schools which speaks volumes about the seriousness of the fiscal crisis.

He said that the 1.42 crore population out of total 3-crore was disappointed with the performance of Capt Amarinder's government as it had not been able to deliver Atta-Dal, Shagun and benefits of other welfare schemes.

Chugh said that the Congress government had promised to waive off 90,000-crore of farm loan waiver but has only been able to issue a notification regarding waiving off an amount of Rs.9,500 crore only.  He said it was all the more disappointing that even that amount has not been actually waived off while farmers continue to commit suicides.

No comments:

Post a Comment