पंजाब सरकार तेज़ाब हमले की पीडि़तों को हर मदद मुहैया करवाने के लिए वचनबद्ध- अरुणा चौधरी - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Saturday, June 30, 2018

पंजाब सरकार तेज़ाब हमले की पीडि़तों को हर मदद मुहैया करवाने के लिए वचनबद्ध- अरुणा चौधरी

सामाजिक सुरक्षा, महिला और बाल विकास मंत्री ने तेज़ाब हमलों को बीमार मानसिकता का प्रतीक बताया
12 पीडि़तों को मार्च 2018 तक प्रति महीना 8000 रुपए की मदद प्रदान की
 वर्ष 2018 -19 के लिए 10 लाख रुपए का बजट मंजूर
चंडीगढ़, 30 जून-
 ‘पंजाब सरकार मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह के नेतृत्व अधीन उन महिलाओं को हर तरह की मदद मुहैया करवाने के लिए वचनबद्ध है, जो महिलाएं तेज़ाब हमलों का शिकार बनी हैं। पंजाब सरकार ऐसे मामलों में सहायता प्रदान करने को प्राथमिता दे रही है।’
 यह जानकारी यहां एक प्रैस बयान के द्वारा देते हुए पंजाब की सामाजिक सुरक्षा, महिला और बाल विकास मंत्री श्रीमती अरुणा चौधरी ने कहा कि तेज़ाबी हमले समाज के माथे पर लगा हुआ कलंक हैं और यह बीमार मानसिकता का प्रतीक हैं।



          श्रीमती चौधरी ने आगे जानकारी दी कि मौजूदा राज्य सरकार ने अपने अस्तित्व में आने से लेकर मार्च 2018 तक तेज़ाबी हमले पीडि़त सहायता स्कीम के अंतर्गत 12 पीडि़त महिलाएं को 8000 रुपए प्रति महीना के हिसाब से माली मदद मुहैया की है। उन्होंने आगे बताया कि वर्ष 2018 -19 के लिए राज्य सरकार ने इस मकसद हेतु 10 लाख रुपए का बजट मंज़ूर किया है और वर्ष 2017-18 में भी 10 लाख रुपए की ही रकम इस मकसद हेतु मंज़ूर की गई थी।



          श्रीमती चौधरी ने आगे बताया कि तेज़ाब हमले से पीडि़त महिला अपने आवेदन जमा करने की तारीख़ से ही पैंशन की हकदार है और उस द्वारा अपने आवेदन सबंधित जि़लों के जि़ला सामाजिक सुरक्षा अफ़सर के पास जमा करवाए जा सकते है बशर्ते कि अपंगता की मात्रा 40 प्रतिशत या इससे अधिक हो और पीडि़ता के पास अपंगता प्रमाण पत्र हो जो कि जि़ले के सिविल सर्जन के कार्यालय से मुफ़्त हासिल किया जा सकता है।



          पारदर्शिता के पक्ष पर ज़ोर देते हुए श्रीमती चौधरी ने बताया कि वित्तीय सहायता स्कीम की हर स्तर पर बहुत गहराई से जाँच पड़ताल की जाती है और हरेक जि़ला सामाजिक सुरक्षा अफ़सर के लिए तेज़ाब हमलों की पीडि़तों को मुहैया करवाई गई सहायत का मुकम्मल रिकार्ड रखना जरूरी है और इस सिलसिले में विस्तृम रिपोर्ट समय-समय पर विभाग के मुख्य कार्यालय को भेजनी भी जरूरी है।



          श्रीमती चौधरी ने कहा कि पंजाब सरकार तेज़ाब हमलों से पीडि़तों का दर्द समझती हुई मुश्किल घड़ी में उनके साथ खड़ी है।