Type Here to Get Search Results !

नए अंदाज, नए किरदार में अदाकार अनस राशिद का पॉलीवुड में डेब्यू


स्टार प्लस के बहुचर्चित टीवी शो ‘दीया और बाती हम’ में सूरज राठी का

किरदार निभा घर-घर में लोकप्रियता बटोरने वाले अभिनेता अनस राशिद ने भी पंजाबी सिनेमा की ओर रुख कर लिया है। टीवी शो ‘दीया और बाती हम’ में आदर्श बेटा, पति, पिता का किरदार निभाने वाले अनस राशिद अपनी पहली पंजाबी फिल्म ‘ननकाना’ में ऐसे किरदार में नजर आएंगे, जैसे किरदार में इससे पहले
उनके प्रशंसकों ने उन्हें कभी न देखा होगा। इन दिनों अनस फिल्म  ‘ननकाना’ को लेकर चर्चा में है। इस फिल्म में उनके प्रशंसकों को उनका एक अलग ही अंदाज देखने को मिलेगा। गायक व अभिनेता गुरदास मान के ड्रीम प्रोजेक्ट फिल्म ‘ननकाना’ में अनस राशिद ने ऐसा किरदार निभाया है जैसा इससे पहले उन्होंने कभी नहीं निभाया है  फिल्म ‘ननकाना’ को लेकर उत्साहित अदाकार अनस राशिद बताते हैं कि वह लंबे समय से मुंबई रहते हुए अनेकों बड़े टीवी शो कर चुके हैं। मगर फिर भी उनके मन में काफी समय से एक अच्छे प्रोजेक्ट की पंजाबी फिल्म करने की तमन्ना
थी। पंजाबी होने के बावजूद अब तक पंजाबी फिल्मों से दूरी बनी रहने का कारण ये था कि शो ‘दीया और बाती हम’ के लिए लंबे समय के  लिए परिवार से दूर ही मुंबई में रहना पड़ा था। जब ये शो चल रहा था उन दिनों ही उन्होंने इसके खत्म होने के बाद पंजाबी फिल्म करने की इच्छा जाहिर कर दी थी। ये शो
जब खत्म हुआ तो उन्हें इस फिल्म का आफर्स आया। उन्हें ये प्रोजेक्ट बेहद अच्छा लगा। अनस बताते हैं कि वह इस बात को लेकर भी खुश हैं कि उन्हें
गुरदास मान जी के ड्रीम प्रोजेक्ट के साथ पॉलीवुड में डेब्यू करने का
अवसर मिला है। इस फिल्म में वह नए अंदाज में नजर आएंगे। उम्मीद है
दर्शकों को उनका ये रुप भी पसंद आएगा। बता दें कि फिल्म ‘ननकाना’ को
गुरदास मान की पत्नी मनजीत मान ने डायरेक्ट किया है। इसमें गुरदास मान व
अदाकार कविता कौशिक के अलावा अदाकार अनस राशिद मुख्य भूमिका निभा रहे
हैं।
        मूल रुप से अदाकार अनस राशिद खुद पंजाब के शहर मालेरकोटला के रहने वाले
होने के कारण पंजाबी हैं। मगर उन्होंने लंबा समय छोटे पर्दे पर प्रशंसकों
के दिलों पर राज किया है। आज भी उनके द्वारा निभाया गया सूरज राठी का
किरदार दर्शकों के मनों पर छाया हुआ है। उनके सैकड़ों चाहने वाले लोग
उन्हें उनके असली नाम से न जानकर सूरज राठी के नाम से ही जानते हैं।
- जगदीश जोशी, मुक्तसर