ग्यारहवीं और बारहवीं के इतिहास की किताब चैप्टर वाइज़ होगी तैयार - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Thursday, July 05, 2018

ग्यारहवीं और बारहवीं के इतिहास की किताब चैप्टर वाइज़ होगी तैयार


15 दिनों में बच्चों को मिल जाएगा पहला अध्याय: सोनी

चंडीगढ़, 5 जुलाई : (बी.टी.टी न्यूज ) -पंजाब सरकार द्वारा राज्य के सरकारी स्कूलों में 11वीं और 12वीं कक्षा में पढऩे वाले विद्यार्थियों को इतिहास विषय से सम्बन्धित अघ्ययन सामग्री अगले 15 दिनों में अध्याय अनुसार मुहैया करवानी शुरू कर दी जाएगी।
यहाँ पंजाब भवन में स्कूल शिक्षा संबंधी कैबिनेट मंत्री पंजाब ओम प्रकाश सोनी की अध्यक्षता मेें आज बोर्ड अधिकारियों और पंजाब सरकार द्वारा इतिहास की किताब तैयार करने के लिए डॉ. किरपाल सिंह के नेतृत्व वाली समिति के मैंबर डॉ. जे.एस. ग्रेवाल, डा. प्रिथीपाल सिंह कपूर, डा. इन्दु बांगा, डा. बलवंत सिंह ढिल्लों और इन्द्रजीत सिंह गोगोआनी उपस्थित थे। मीटिंग में स्कूल शिक्षा विभाग के प्रशासनिक सचिव कृष्ण कुमार, पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के चेयरमैन मनोहर कांत कलोहिया, डायरैक्टर जनरल स्कूल शिक्षा कम वाइस चेयरमैन प्रशांत गोयल और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
इस अवसर पर श्री सोनी ने कहा कि पंजाब का इतिहास बहुत ही गौरवमयी है और इसको शिखर पर पहुँचाने में सिख धर्म की अहम भूमिका है और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की यह हार्दिक इच्छा है कि पंजाब के बच्चों को अपने विरसे से सही ढंग से परिचित करवाया जाए और इस मकसद के लिए उन्होंने यह समिति गठित की है।
मीटिंग के दौरान डा. किरपाल सिंह ने कहा कि पंजाब और विशेषकर सिख इतिहास का इस पूरे क्षेत्र पर गहरा प्रभाव है, जिसने इस क्षेत्र में बहुत अहम बदलावों को जन्म दिया। उन्होंने कहा कि सिख योद्धाओं संबंधी समकालीन इतिहासकार अच्छे शब्द ईस्तेमाल नहीं किया करते थे परन्तु सिखों का कुर्बानी के प्रति जज़्बा, इंसानी मान मर्यादायों का पालन करने के प्रति निष्ठा को देखकर वे भी कायल हो गए थे। उन्होंने कहा कि आज हमें अपनी नौजवान पीढ़ी को अपने गौरवमयी इतिहास से अच्छी तरह परिचित करवाना चाहिए जिससे वे भी अपने महान बुज़ुर्गों जैसे व्यक्तित्व बना सकें। इसलिए प्रस्तावित किताबों की रूप रेखा इस तरह की हो कि वे बच्चों को प्रेरित करें। 
किताब की रूप रेखा संबंधी डा. इन्दु बांगा ने कहा कि ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के इतिहास की किताब को तैयार करते समय इस बात का ध्यान रखा जाएगा कि विद्यार्थी जब पंजाब का इतिहास पढ़ेंगे तो साथ ही उस अध्याय में वह समकालीन भारतीय इतिहास से भी परिचित होंगे।
विद्यार्थियों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए मीटिंग में यह साझे रूप में फ़ैसला लिया गया कि ग्यारहवीं और बारहवीं के इतिहास की किताब चैप्टर वाइज़ तैयार होगी और यह चैप्टर साथ के साथ बोर्ड की वैबसाईट पर अपलोड कर दिया जायेगा और पूरी किताब दिसंबर महीने तक तैयार करके छाप दी जायेगी।
श्री सोनी ने समिति को हर तरह की सहायता देने का भी भरोसा दिया जिससे इतिहास की किताब का काम निश्चित समय में पूरा हो सके।