परभू भगती का नषा सब से उत्तम होता है - भगत शम्मी चावला - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Thursday, July 05, 2018

परभू भगती का नषा सब से उत्तम होता है - भगत शम्मी चावला




श्री मुक्तसर साहिब 05 जुलाई (बी.टी.टी न्यूज ) इलाके भर में मानवता और आपसी भाईचारे के प्रतीक जाने जाते स्थानीय गाँधी नगर स्थित डेरा संत बाबा बग्गू भगत, सांझा दरबार संत मंदिर में वीरवार की सुबह सप्ताहिक सतिसंग का आयोजिन किया गया। डेरा कमेटी के चेयरमैन और गद्दी नशीन परम पूजनीण भगत शम्मी चावला जी उर्फ बाऊ जी की सरप्रस्ती और अगवाई में हुई इस सतिसंग दौरान बड़ी संख्या में उनके पैरोकारों और डेरा श्रद्धालुयों ने भाग लिया। डेरे की प्रचलित मरियादा अनुसार सतिसंग की शुरूआत अरदास वंदना करके की गई। सतिसंग दौरान बाऊ जी ने वीरवार की कथा विस्तारपूर्वक सुनाई और इस पर अमल करने की प्रेरना दी। उन्होंने कहा कि वीरवार की कथा पढऩे-सुनने से खुशीयाँ प्राप्त होती हैं। यह कथा सुनने वालो की लिव प्रभू भगती और प्रभू नाम से जुड़ जाती हे। प्रभू भगती का नशा सब से उत्तम और सच्चा होता हे। सभी दुनियावी नशे कुछ देर बाद उतर जाते हैं परंतू परमात्मा की भगती का नशा अगर एक बार लग जाए तो इसकी खुमारी सदा चढ़ी रहती है। बाऊ जी ने संसारिक जीवों को सारे दुनियावी नशे त्याग कर प्रभू भगती का नशा गृहण करने की प्रेरना दी। उन्होंने आगे फरमाया कि हर मनुष्य को उसके किये कर्मों के अनुसार ही नफा नुकसान होता है। सारी मानवता को लोग भलाई करते हुए और लोभ लालच त्यार कर जीवन बतीत करना चाहिए। जानकारी देते हुए डेरा कमेटी के चीफ आरगेनाइजर जगदीश राय ढोसीवाल ने बताया है कि अपने प्रवचनों दौरान बाऊ जी ने फरमाया कि जो मनुष्य किसी की निंदा चुगली करते हैं अथवा ईरखा भरा रवइआ अपनाते हैं परमात्मा उन पर कभी खुश नहीं होता। सतिसंग दौरान स्थानीय श्रद्धालुयों द्वारा भजन गायन भी किया गया। सतिसंग के अंत में बाऊ जी ने समस्त मानवता की सुख शान्ति, अमन चैन और भलाई की अरदास
की। सतिसंग की समाप्ती उप्रांत संत बाबा बग्गे भगत जी का भंडारा (लंगर) अतुट वितरित किया गया जिसमें सेवादारों ने पूरी श्रद्धा भावना और प्रेम से लंगर बरताने की सेवा की।