एस.वाई.एल. और चंडीगढ़ की माँग करने वाले खट्टर को रैली में साथ बिठाकर अकालियों ने पंजाबियों की पीठ में छुरा घोंपा- सुखजिन्दर सिंह रंधावा - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Wednesday, July 11, 2018

एस.वाई.एल. और चंडीगढ़ की माँग करने वाले खट्टर को रैली में साथ बिठाकर अकालियों ने पंजाबियों की पीठ में छुरा घोंपा- सुखजिन्दर सिंह रंधावा


(कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कल चंडीगढ़ में खट्टर की माँग रद्द करके लिया था पंजाब का पक्ष)
(अकाली दल ने प्रधानमंत्री मोदी के पास पंजाब की कोई भी माँग न रखकर पंजाब विरोधी होने का दिया सबूत)

चंडीगढ़, 11 जुलाई:
सतलुज यमुना लिंक नहर और चंडीगढ़ हरियाणा को देने की एक दिन पहले माँग रखने वाले हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर को आज मलोट में रैली के दौरान स्टेज पर बिठा कर शिरोमणि अकाली दल ने पंजाबियों की पीठ में छुरा घोंपा जिसके लिए पंजाबी अकाली दल को कभी भी माफ नहीं करेंगे। यह बात सीनियर कांग्रेसी नेता और पंजाब के सहकारिता और जेल मंत्री स. सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने आज यहां जारी प्रैस बयान में कही।
स.रंधावा ने कहा कि कल चंडीगढ़ में एक समागम के दौरान जब मनोहर लाल खट्टर ने हरियाणा के लिए नहर और चंडीगढ़ की माँग रखी थी तो मौके पर मौजूद पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अपने हरियाणा के समकक्ष की माँगों को रद्द करते हुए पंजाब समर्थकी स्टैंड लिया था। उन्होंने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने हमेशा ही पंजाब के हकों के लिए बड़े फ़ैसले लिए हैं जबकि बादलों ने कभी भी पंजाब का पक्ष नहीं लिया। उन्होंने कहा कि आज प्रधानमंत्री को खुश करने के लिए रखी रैली के दौरान अकाली दल ने हरियाणा के मुख्यमंत्री को स्टेज पर बुला कर पंजाब विरोधी होने का सबूत दे दिया है।
स.रंधावा ने कहा कि आज अकाली दल के पास सुनहरी मौका था जब केंद्र में अकाली दल की हिस्सेदार भाजपा के प्रधानमंत्री नरिन्दर मोदी के आगे पंजाब की माँगें रखी जाती परंतु अकाली दल पंजाब की आवाज़ बुलंद करने में असफल रहा। उन्होंने कहा कि प्रकाश सिंह बादल ने कई बार वोटों की ख़ातिर चंडीगढ़ पंजाब को देने के संकल्प के पास किये हैं परंतु अगर उनकी नीयत साफ़ होती तो आज प्रधानमंत्री के पास चंडीगढ़ के हल के लिए अपील करते। उन्होंने कहा कि अकाली दल ने सिद्ध कर दिया है कि उनका मकसद सिफऱ् राजसी रोटियाँ सेकना हैं, पंजाब के हितों के साथ कोई सम्बन्ध नहीं है।