‘पटाख़े’ डालने वालों का बुलेट होगा ज़ब्त- सोनी - BTTNews

ताजा अपडेट

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Thursday, July 12, 2018

‘पटाख़े’ डालने वालों का बुलेट होगा ज़ब्त- सोनी





प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड को 10 दिनों में कार्यवाही के दिए आदेश



चंडीगढ़, 12 जुलाई-



          पंजाब के पर्यावरण मंत्री श्री ओम प्रकाश सोनी ने वाहनों द्वारा फैलाए जा रहे ध्वनि प्रदूषण को रोकने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि शहरों में बुलेटों पर पटाख़े डालने वालों पर ध्वनि प्रदूषण फैलाने वालों के खि़लाफ़ तुरंत कठोर कार्यवाई की जाये और वायु की गुणवत्ता सुधारने के लिए ख़ास उपाय किए जाएँ।



          यहां पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड (पीपीसीबी) और पर्यावरण विभाग के अधिकारियों की उच्च स्तरीय मीटिंग में श्री सोनी ने कहा कि वाहन प्रदूषण की जांच करने वाले केन्द्रों को ऑनलाइन किया जा रहा है, जिससे प्रदूषण जांच करवाने वाले प्रत्येक वाहन के विवरण ऑनलाइन दर्ज होंगे। इसके साथ ही वाहन मालिक को अपने वाहन की फिर जांच संबंधी सप्ताह पहले ही मोबाइल फ़ोन पर एसएमएस के द्वारा पता लग जायेगा।



          पर्यावरण मंत्री ने हिदायत की कि शहरों के सिवरेज और फ़ैक्टरियों का दूषित पानी बिना ट्रीट किए दरियाओं में न फेंका जाये। उन्होंने कहा कि अधिकारियों की जि़म्मेदारी तय की जाये और वह ख़ुद जाकर ज़मीनी स्तर पर इसकी जांच करेंगे। अगर कोई उद्योग अपना दूषित पानी दरिया में फेंकता पाया गया तो उस इलाको के संबंधित अधिकारी के खि़लाफ़ कार्यवाई की जायेगी। उन्होंने कहा कि उन्होंने पदभार संभालने से तुरंत बाद राज्य की सभी औद्योगिक इकाईयों को दो महीनो का समय देकर प्रदूषण रोकने के लिए कहा था। अब यह समय पूरा हो चुका है। अब भी प्रदूषण फैला रही इकाईयों के खि़लाफ़ सख्त कार्यवाही का समय आ गया है। उन्होंने कहा कि अगर कोई अधिकारी ड्यूटी में कोताही करता पाया गया तो उसे बख्शा नहीं जायेगा। उन्होंने ऐक्सियन और अन्य अधिकारियों को हर सप्ताह सिविरेज ट्रीटमेंट प्लांटों (एस्टीपीज़) का दौरा करने के लिए कहा।



          श्री सोनी ने पानी और वायु के नमूने जांचने वाली विभाग की सभी लैबोरेटरियों को कार्यशील करने का आदेश दिया। उन्होंने कहा कि लुधियाना में औद्योगिक प्रदूषण की बड़ी समस्या है और इस वर्ष 31 दिसंबर तक लुधियाना शहर का सारा पानी ट्रीट करने के प्रबंध किये गए हैं। उन्होंने कहा कि अमृतसर, जालंधर, लुधियाना और पटियाला में सिफऱ् सीएनजी आधारित थ्री वह्ीलर ही रजिस्टर्ड किये जाएंगे। उन्होंने हादसों का कारण बनते टिप्पर चालकों को भी ट्रैफिक़ नियमों संबंधी शिक्षित करने और टिप्परों में प्रमाणित हद तक सामान ढोना यकीनी बनाने के लिए कहा।



          मीटिंग में पर्यावरण विभाग के प्रमुख सचिव रौशन सुंकारिया, पंजाब प्रदूषण कंट्रोल बोर्ड के चेयरमैन श्री काहन सिंह पन्नू, विशेष सचिव पर्यावरण श्री टी.एस. धालीवाल और मैंबर सचिव पवन गर्ग सहित अन्य कई सीनियर अधिकारी उपस्थित थे।