देश की एकता और साम्प्रदायिक सौहाद्र्र की मज़बूती के लिए ख़ूनदान सबसे उत्तम कार्य- अरोड़ा - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Thursday, August 16, 2018

देश की एकता और साम्प्रदायिक सौहाद्र्र की मज़बूती के लिए ख़ूनदान सबसे उत्तम कार्य- अरोड़ा


उद्योग मंत्री द्वारा शहीद भगत सिंह नगर स्थित ब्लड बैंक और कुष्ट केंद्र का दौरा
चंडीगढ़, 16 अगस्त:
    देश की स्वतंत्रता की 72वीं वर्षगांठ के अवसर पर पंजाब के उद्योग मंत्री श्री सुन्दर शाम अरोड़ा ने शहीद भगत सिंह नगर की एक ग़ैर-सरकारी संस्था द्वारा संचालित ब्लड बैंक का दौरा किया। ब्लड बैंक के प्रबंधकों द्वारा किये जा रहे कामों की सराहना करते हुए श्री अरोड़ा ने कहा ख़ूनदान देश की एकता, अखंडता और साम्प्रदायिक सौहाद्र्र की मज़बूती के लिए सबसे उत्तम कार्य है।
    श्री अरोड़ा ने ख़ूनदाता को मानवता के फ़रिश्तों के तौर पर बताया। उन्होंने श्री इकबाल सिंह के नेतृत्व में लायनज़ क्लब सिटी 321 -डी द्वारा लगाए एक ख़ूनदान कैंप का उद्घाटन भी किया। इस कैंप के दौरान 109 लोगों द्वारा खुनदान किया गया।
    इस मौके पर बी.डी.सी के संस्थापक और प्रधान श्री जी. एस. तूर और सचिव श्री पी.आर कालिया द्वारा उद्योग मंत्री का स्वागत किया गया। इस ब्लड बैंक का उद्घाटन 26 वर्ष पहले नामी समाज सेवक भगत पूरन सिंह द्वारा किया गया था।
    स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर श्री अरोड़ा ने लैप्रेसी सैंटर (कुष्ट केंद्र) का दौरा भी किया। कुष्ट रोगी के प्रति अपने सौहाद्र्र और संवेदनशीलता दिखाते श्री अरोड़ा ने कहा कि यह रोगी भी समाज का हिस्सा हैं और इनके साथ छूतछात का कोई भेदभाव नहीं होना चाहिए। इन रोगी के पुनर्वास के लिए यत्न होने चाहिएं जिससे वह आम लोगों की तरह आराम से जि़ंदगी जी सकें और अगर किसी किस्म की कोई सजऱ्री की ज़रूरत हो तो वह भी जल्दी से जल्दी मुहैया करवानी चाहिए। इस मौके पर उन्होंने लैप्रेसी सैंटर को पट्टियाँ, दवाएँ और एक लाख के अनुदान के इलावा 25000 रुपए निजी तौर पर देने का एलान भी किया।
    इस मौके पर श्री अंगद सैनी, श्री दर्शन सिंह मंगूपुर (दोनो विधायक), एस.बी.एस. नगर के डिप्टी कमिशनर, एस.एस.पी. और सिवल सर्जन मौजूद थे