1984 दंगो के एक दोषी को फांसी दूसरे को उम्र कैद - सीएम कैप्टन ने किया स्वागत (अपडेट) - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Tuesday, November 20, 2018

1984 दंगो के एक दोषी को फांसी दूसरे को उम्र कैद - सीएम कैप्टन ने किया स्वागत (अपडेट)

1984 में हुए दिल्ली के दंगों के 34 साल बीत जाने के बाद पटियाला हाउस कोर्ट की ओर से आज मंगलवार को सुनाए गए फैसले में एक दोषी यशपाल को जहां फांसी की सजा सुनाई है वही नरेश सहरावत को उम्र कैद का हुक्म दिया है।


15 नवंबर को अदालत ने अवतार सिंह और हरदेव सिंह को 1 जनवरी 1 9 84 को दिल्ली के महिपालपुर इलाके में दोनों सिखों की हत्या मामले में फैसला आरक्षित कर दिया था। आज पटियाला हाउस कोर्ट ने इस मामले में सजा की घोषणा की है। साक्ष्य की कमी के कारण 1 99 4 में मामला बंद कर दिया गया था, लेकिन इसे विशेष जांच दल द्वारा फिर से खोल दिया गया था।
____________________________________

मुख्यमंत्री द्वारा 1984 के दंगों के केस में मौत की पहली सजा का स्वागत चंडीगढ़, 20 नवंबर: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने 1984 के दंगों सम्बन्धी एक केस में दिल्ली की एक अदालत द्वारा मौत की पहली सजा सुनाए जाने का स्वागत किया है जोकि लंबे समय से चला आ रहा था । दंगों के दौरान दक्षिणी दिल्ली के महीपालुर में दो व्यक्तियों की हत्या के सम्बन्ध में दिल्ली की एक अदालत द्वारा दो व्यक्तियों को सजा सुनाए जाने, जिनमें से एक को मौत की सजा सुनाई गई है, पर प्रतिक्रिया प्रकट करते हुए उन्होंने कहा कि आखिऱकार घिनौने अपराध के लिए न्याय मिला है । मुख्यमंत्री ने यह भी नोट किया है कि इस मामले में अदालत को न्याय देने के लिए 30 साल से अधिक समय लगा है । उन्होंने उम्मीद प्रकट की कि दूसरे मामलों का भी न्यायपालिका द्वारा जल्द ही निपटारा कर दिया जायेगा। कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय चेतना पर गहरे जख़़्म छोडऩे वाले दंगों के मामलों को तेज़ी से हल करने और इनको जल्द से जल्द उचित मुकाम पर पहुँचाने की ज़रूरत है । इन अकल्पित दंगों के बाद पीडि़तों को मदद मुहैया करवाने के लिए कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने शरणार्थी कैंपों का दौरा किया था । इन दंगों में हज़ारों लोग मारे गए थे और लाखों बेघर हो गए थे । मुख्यमंत्री ने उम्मीद प्रकट की कि हमलों में शामिल अन्य व्यक्तियों को भी अपने घिनौने और अमानवीय कर्मों के लिए जल्द ही कानून के कटघरे में लाया जायेगा ।