पशु पालन विभाग द्वारा 3 अफ़सर निलंबित - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Saturday, November 17, 2018

पशु पालन विभाग द्वारा 3 अफ़सर निलंबित

पशु पालन मंत्री ने  किया था मत्तेवाड़ा पशु पालन फार्म का अचानक दौरा

पशु पालन, डेयरी विकास एवं मछली पालन से सम्बन्धित फार्मों, अस्पतालों और डिस्पैंसरियों की चैकिंग करेंगी राज्य स्तर की टीमें

चंडीगढ़, नवंबर 17: 
पशु पालन विभाग ने मत्तेवाड़ा पशु पालन फार्म में स्टाफ की बड़े स्तर पर ग़ैर हाजिऱी, पशुओं की देखभाल, आस पास की गन्दगी और स्टॉक रजिस्टर में कमियों की रिपोर्ट के आधार पर 3 अफसरों को निलंबित कर दिया है। पिछले दिनों 13 नवंबर को पशु पालन मंत्री द्वारा मत्तेवाड़ा फार्म का अचानक दौरा किया गया था।


स. बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि उनको किसी ने गुप्त सूचना दी थी कि पशु पालन विभाग के मत्तेवाड़ा फार्म में तैनात अफ़सर ग़ैर -कानूनी ढंग से पशुओं को बेचते थे जिसको गंभीरता से लेते हुए उनके द्वारा 13 नवंबर को फार्म का अचानक दौरा किया गया। जहाँ कई कमियां पाई गईं और उस दौरे के दौरान पाई गई ख़ामियों की तकनीकी तौर पर जांच करने के लिए पशु पालन विभाग की 3 सदस्यीय कमेटी बनाई गई।


पशु पालन मंत्री ने बताया कि 14 नवंबर को जांच कमेटी की तरफ से मत्तेवाड़ा फार्म का दौरा किया गया और वहां अलग -अलग सेक्शनों के कामों को जाँचा गया। इस जांच के दौरान सामने आया है कि स्टाफ की बड़े स्तर पर ग़ैर हाजिऱी रहती है और पशूओं के आस पास की गन्दगी और स्टॉक रजिस्टर में कई गल्तियाँ थीं। स्टॉक की चैकिंग के दौरान पाया गया कि रिकॉर्ड में विभिन्न उम्र की 80 बकरियों की प्रविष्टि थी जबकि फार्म पर 105 विभिन्न उम्र की बकरियां मौजूद थीं। इसी तरह भेड़ नस्ल फार्म पर भी स्टॉक की वैरीफिकेशन की गई तो स्टॉक अनुसार विभिन्न उम्र की 327 भेडें थीं परन्तु फार्म में 396 (छोटे और बड़े) भेड़ें थीं। इस सम्बन्ध में डायरैक्टर, पशु पालन, पंजाब ने सरकार को सौंपी जांच रिपोर्ट के आधार पर डा. एन.के शर्मा, डिप्टी डायरैक्टर, मत्तेवाड़ा फार्म, डा. राजीव नन्दा, वेटरनरी अफ़सर, मत्तेवाड़ा फार्म और श्री दर्शन सिंह, वेटरनरी इंस्पेक्टर को अपनी ड्यूटी में कोताही बरतने का जि़म्मेदार पाते हुए सरकारी सेवा से निलंबित कर दिया गया है। 


उन्होंने बताया कि स. सिद्धू ने स्पष्ट किया कि वह अपने विभाग में किसी भी तरह की कमी या काम के प्रति लापरवाही बर्दाश्त नहीं करेंगे। यदि कोई भी अधिकारी या कर्मचारी ऐसा दोषी पाया जाता है तो उसके खि़लाफ़ सख़्त विभागीय और कानूनी कार्यवाही अमल में लाई जायेगी। उन्होंने कहा कि राज्य के पशु पालन, डेयरी विकास एवं मछली पालन विभाग के फार्मों, अस्पतालों और डिस्पैंसरियों आदि के अचानक दौरे और जांच भविष्य में भी जारी रहेंगे और जिसके लिए राज्य स्तर की विशेष जांच कमेटीयां भी सभी जिलों का दौरा करेंगी।
पशु पालन मंत्री स. बलबीर सिंह सिद्धू ने बताया कि राज्य सरकार किसानों को सहायक धंधे के तौर पर पशु पालन, डेयरी फार्मिंग और मछली पालन के पेशे को अपनाने के लिए प्रेरित कर रही है जिसके अधीन राज्य में कई आधुनिक प्रोजेक्टों पर काम चल रहा है। इस अवसर परउनके साथ उनके राजनैतिक सचिव श्री हरकेश चंद शर्मा और अन्य भी उपस्थित थे।