अध्यापकों का यूनियनें कर रही निजी लाभ के लिए इस्तेमाल - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Monday, November 12, 2018

अध्यापकों का यूनियनें कर रही निजी लाभ के लिए इस्तेमाल


शिक्षा विभाग में आए सोसाईटियों के 650 अध्यापकों को नियुक्ति पत्र दिए

एस.ए.एस. नगर
          शिक्षा विभाग पंजाब द्वारा पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के ऑडीटोरियम में करवाए प्रोग्राम में शिक्षा मंत्री श्री ओ.पी. सोनी ने कहा कि यूनियनें निजी लाभ के लिए अध्यापकों का इस्तेमाल कर रही हैं। कैप्टन सरकार ने अध्यापकों को दोनों विकल्प दिये थे। वह या सोसाईटियों के अधीन सेवाएंं जारी रखें या फिर शिक्षा विभाग में रेगुलर हों।


          इसके बाद शिक्षा मंत्री ने सर्व शिक्षा अभियान (एसएसए) और अन्य सोसाईटियों से शिक्षा विभाग में रेगुलर होने वाले 650 अध्यापकों को नियुक्ति पत्र सौंपे। जि़क्रयोग्य है कि पंजाब सरकार द्वारा शिक्षा विभाग में रेगुलर नियुक्ति के लिए नोटिफिकेशन जारी किया गया था, जिसमें सोसाईटियों के अधीन काम कर रहे अध्यापकों को शिक्षा विभाग में शर्तों के अनुसार आने का विकल्प या सोसाईटियों के अधीन रहने का विकल्प दिया गया था। इस विकल्प को 23 अक्तूबर तक चुनने वाले हज़ारों अध्यापकों को रेगुलर नियुक्ति पत्र जारी कर दिए गए थे। आज इस समागम के दौरान 8 से 23 अक्तूबर तक शिक्षा विभाग में आने का विकल्प देने वाले अध्यापकों को शिक्षा मंत्री श्री सोनी ने नियुक्ति पत्र दिए। उन्होंने कहा कि रेगुलर होने का विकल्प देने वाले इन अध्यापकों को मनपसंद के स्टेशन दिए जाएंगे।
          इस मौके पर श्री सोनी ने समूह अध्यापकों को बधाई देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री पंजाब कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने अध्यापकों को रेगुलर करने के साथ-साथ 5000 रुपए ग्रेड पे भी दिया है, जिसके लिए वह अध्यापकों की तरफ से मुख्यमंत्री का धन्यवाद करते हैं। उन्होंने अध्यापकों को प्रेरित करते हुए कहा कि वह पंजाब सरकार का हिस्सा बन चुके यह अध्यापक अब सरकार की शिक्षा को प्रफुल्लित करने वाली नीतियों को बखूबी लागू करके अपना और स्कूलों का नाम रौशन करें। उन्होंने कहा कि अध्यापन का पेशा चुनने के बाद अध्यापक को विद्यार्थियों के बढिय़ा नतीजों के लिए सोचना चाहिए, न कि बच्चों की शिक्षा को ढाल बना कर नीतियों का बाइकाट करते हुए लीडरी चमकानी चाहिए। उन्होंने धरना देने वाले अध्यापकों को स्पष्ट शब्दों में कहा कि अध्यापक लीडरी छोड़ कर अध्यापन का काम ही करें।
          इस मौके पर सचिव स्कूल शिक्षा पंजाब कृष्ण कुमार, चेयरमैन पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड मनोहर कांत कलोहिया, डायरैक्टर जनरल स्कूल शिक्षा पंजाब प्रशांत गोयल, डीपीआई (सेकंडरी) सुखजीतपाल सिंह, डीपीआई (एलिमेंट्री) इन्द्रजीत सिंह और अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

-----------------