गांधी परिवार ने 1984 के हत्याकांड के लिए आतंकवादियों की लगाई थी ड्यूटी : मनजिन्दर सिंह सिरसा - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

POLL- PM KON ?

Wednesday, December 26, 2018

गांधी परिवार ने 1984 के हत्याकांड के लिए आतंकवादियों की लगाई थी ड्यूटी : मनजिन्दर सिंह सिरसा

अकाली दल हमेशा 1984 के सिख हत्याकांड के पीडि़तों के साथ खड़ेगा
नई दिल्ली, 26 दिसंबर
शिरोमणी अकाली दल के राष्ट्रीय प्रवक्ता और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के महा सचिव श्री मनजिन्दर सिंह सिरसा ने कहा है कि 1984 दौरान गांधी परिवार का नेतृत्व वाली कांग्रेस पार्टी नेहत्याकांड करने के लिए आतंकवादियों की ड्यूटी लगाई थी और इस हत्याकांड को सिख भाईचारे में नस्लकुशी में बदलने के लिए हिदायत की थी और सिख भाईचारे में इस परिवार के खिलाफ गुस्सा सदा ही रहेगा।


यहां जारी किए एक बयान में श्री सिरसा ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का मकसद सिखों में दहशत फैला और हर सिख को मार देना थी जिस के लिए इसने वह व्यक्ति ड्यूटी पर लगाए थे जो आतंकवादियों कीअपेक्षा कम नहीं थे। उन्होंने कहा कि पिछले 34 सालों के दौरान यह पार्टी दुनियां की सब से भयानक नस्लकुशी के दोषियों को हर पक्ष से बचाती रही और अदालतें भी गांधी परिवार और उन का नेतृत्व वालीकांग्रेस पार्टी की तरफ से दी गई राजनैतिक सरप्रस्ती कारण दोषियों को सजाएं देने में लाचार रही।


उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में राजीव गांधी के नाम और लुधियाना में इसके बुत का मुंह काला करने की कार्यवाई को पीडि़तों की भावनाओं का ख्याल रखते किसी भी तरीके निंदा नहीं कहा जा सकता।उन्होंने कहा कि यह भी परमात्मा का शुक्रिया है कि इन परिवारों ने सिर्फ राजीव गांधी का मुंह ही काला किया है और राष्ट्रीय राजधानी और अन्य शहरों में हजारों मासूम सिखों के हत्याकांड का बदला लेनेके लिए हथियार नहीं उठाए।
उन्होंने कहा कि हैरानी वाली बात यह है कि शिरोमणी अकाली दल की तरफ से इन पीडि़तों की हिमायत करने का शोर मचा रही है जबकि आप भूल गई है कि उसने 1984 के कातिलों को बचाया उन्होंनेकहा कि हम कहा कि हम पीडि़तों की हिमायत करते रहेंगे क्योंकि उन का गुस्सा हर पक्ष से वाजिब है। उन्होंने कांग्रेस को सवाल किया कि जब यह अब तक कातिलों को बचाती रही है तो फिर वह अकालीदल की तरफ से पीडि़तों की हिमायत  करन की बात कैसे सोच सकती है।


 उन्होंने देश के लोगों को अपनी बात कहने पर भावनाएं प्रकट करने की पूरी आजादी है और कोई भी इन को ऐसा करने से नहीं रोकसकता।
श्री सिरसा ने कहा कि पहले दिन से ही शिरोमणी अकाली दल पीडि़तों और इन के परिवारों के साथ खड़ा रहा है और हमेशा रहेगा। उन्होंने कहा कि यदि कातिलों को बचाना वाजिब है तो फिर पीडि़तपरिवारों की तरफ से कार्यवाई की भी किसी तरीके निंदा नहीं की जा सकती।
उन्होंने कहा कि 1984 की सिख नस्लकुशी के मामलों को इन के नतीजे तक लाने में 34 साल लग गए और अब जा कर सज्जण कुमार और दो दूसरे को सजाएं मिलीं हैं उन्होंने कहा कि दूसरे मामलों में भीअकाली दल पीडि़तों को न्याय मिलना और दोषियों को सलाखों के पीछे पहुंचाना यकीनी बनाऐगा।
उन्होंने कहा कि लोग अब समझ रहे हैं कि इसके सीनियर पार्टी नेताओं को सजाएं मिलने कारण ही कांग्रेस घबराहट में है परन्तु वह दिन दूर नहीं जब गांधियों का नाम और उन की भूमिका कानूनी तौर परसामने आएगी और उन को दुनियां को हैरान करने वाले इस हत्याकांड के लिए आतंकवादी तैनात करने की सजा मिलेगी और वह सलाखों के पीछे होंगे।