पंजाब फूड कमीशन के चेयरमैन रेड्डी ने पोषक तत्वों की जांच हेतु अधिकारियों को दिए निर्देश

चंडीगढ़, 2 फरवरी:
सरकारी स्कूलों और आंगनवाडिय़ों में उपयुक्त पोषक तत्वों सहित मिड-डे-मील (एमडीएम) की गुणवत्ता को सुनिश्चित करने हेतु पंजाब फूड कमीशन के चेयरमैन डी पी रेड्डी ने अधिकारियों को इस योजना के अंतर्गत बच्चों को दिए जाने वाले भोजन के आकस्मिक नमूने लेने के निर्देश जारी किए हैं। इन नमूनों को जांच के लिए प्रयोगशाला में भेजा जाएगा। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य एवं शिक्षा विभाग के अधिकारी/कर्मचारी भोजन तैयार करने की प्रक्रिया की निगरानी करेंगे।

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव सतीश चंद्रा और अन्य अधिकारियों के साथ एक समीक्षा बैठक के दौरान रेड्डी ने आगे कहा कि अधिकारी/कर्मचारी यह सुनिश्चित करेंगे कि भोजन स्वच्छ और साफ-सुथरी अवस्था में तैयार किया गया हो और साथ ही वे बच्चों को भोजन खाने से पहले हाथ धोने के लिए भी प्रेरित करेंगे। यह कहते हुए कि यह सारी कवायद स्कूलों में मिड-डे-मील के प्रबंधन को मज़बूत करने के लिए शुरू की गई है, उन्होंने कहा कि इसके लिए तय किए गए नियमों का हर हाल में पालन किया जाएगा।
अधिक जानकारी देते हुए चेयरमैन ने कहा कि बच्चों के लिए पौष्टिक और बढिय़ा गुणवत्ता का भोजन यकीनी बनाने के लिए प्रयोगशाला जांच के लिए भोजन के नमूने भेजे जाने हेतु विचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि भोजन पकाने के लिए पेयजल के प्रयोग को यकीनी बनाना और इसकी नियमत जांच को अनिवार्य तौर पर अमल में लाना चाहिए। इस सम्बन्धी स्कूल प्रबंधकों को भोजन बनाने के लिए साफ़ -सुथरा वातावरण प्रदान करने और अच्छी गुणवत्ता का भोजन बरकरार रखने के लिए भी कहा गया है। आंगनवाड़ी और स्कूलों को हरेक विद्यार्थी की सेहत और वजऩ सम्बन्धी विवरणों को दर्शाता हुआ एक मासिक ग्रोथ कार्ड बनाना होगा। बच्चों को भोजन सूची के अनुसार ही भोजन दिया जायेगा।
इस अवसर पर प्रमुख सचिव, महिला एवं बाल विकास और सामाजिक सुरक्षा विभाग राजी पी. श्रीवास्तव, फूड कमीशन के मैंबर पी.एस शेरगिल्ल, एन.एच.एम, एम.सी.एच और शिक्षा विभाग के अधिकारी मौजूद थे।
------------

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.