गोलक लूटे जाने पर पुलिस द्वारा घोषित भगौड़े व्यक्ति के मुंह से उपदेश अच्छे नहीं लगते - BTTNews

Breaking

�� बी टी टी न्यूज़ है आपका अपना, और आप ही हैं इसके पत्रकार अपने आस पास के क्षेत्र की गतिविधियों की �� वीडियो, ✒️ न्यूज़ या अपना विज्ञापन ईमेल करें bttnewsonline@yahoo.com पर अथवा सम्पर्क करें मोबाइल नम्बर �� 7035100015 पर

Saturday, May 25, 2019

गोलक लूटे जाने पर पुलिस द्वारा घोषित भगौड़े व्यक्ति के मुंह से उपदेश अच्छे नहीं लगते

कोर कमेटी की तरफ से जी.के की चिट्ठी का जवाब

नईं दिल्ली
 शिरोमणी अकाली दल की कोर कमेटी ने कहा है कि जो व्यक्ति गुरु की गोलक लुटे जाने से भगोड़ा करार दिया गया है उस के मुंह से उपदेश अच्छे नहीं लगते। यह प्रतिक्रिया उन्होंने आज यहां दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पुर्व अध्यक्ष मनजीत सिंह जी.के. को गोलक लूटे जाने के कारण पार्टी में से निकाले जाने के बाद कौम के नाम लिखी चिट्ठी के जवाब में ज़ाहिर कीं।


मनजीत सिंह जी.के की तरफ से लिखी चिट्ठी का जवाब देते हुए कोर कमेटी के सदस्यों जिनमें जथेदार अवतार सिंह हित, स. मनजिंदर सिंह सिरसा, स. हरमीत सिंह कालका, स. कुलवंत सिंह बाठ और जतिंदर सिंह शंटी भी शामिल थे, ने कहा कि गुरु के करोड़ों रुपये के भ्रष्टाचार में फंसे जी.के को बीते दिन पार्टी से बाहर निकाल दिया गया है। उन्होंने कहा कि मनजीत सिंह जी.के इस समय लोगों का ध्यान भटकाने के लिए और मीडिया को गुमराह करने के लिए ऐसी चिट्ठीयां लिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया पर मनजीत सिंह जी.के की तरफ से दावा किया जा रहा है कि उन्होंने पार्टी के सारे पद छोड़ दिये हैं। कमेटी के सदस्यों ने कहा कि जी.के ने पद छोड़े नहीं ब्लकि सारे पदों से पार्टी की कोर कमेटी की मीटिंग में उन्हें बखऱ्ासत कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि इस तरह की चिट्ठीयां लिख कर वह लोगों का ध्यान उनके द्वारा किये गये गोलक की लूट से नहीं हटा सकते।
उन्होंने कहा कि सिख इतिहास में यह पहली बार हुआ है कि किसी अध्यक्ष कोे गुरु की गोलक लूटने पर अध्यक्षता से ज़लील करके निकाला गया हो। उन्होंने आगे कहा कि वो व्यक्ति हमें उपदेश दे रहा है जिस पर अदालत ने गै़रज़मानती धारा 409 लगाने के हुक्म दिये हैं जिस में उम्रकैद तक की सजा हो सकती है। अकाली नेताओं ने कहा कि पुलिस की तरफ से भगौड़ा करार दिया गया मनजीत सिंह जी.के कौम के नाम पर चिट्ठीयां लिख कर उपदेश दे रहा है।
पार्टी में से निकाले गये मनजीत सिंह जी.के पर लगे भ्रष्टाचार के दोषों का उल्लेख देते हुए कोर कमेटी के सदस्यों ने बताया कि किताबों की छपाई के फर्जी बिल बना कर घोटाला किया गया, बेटी के नाम पर फर्जी कंपनी बना कर करोड़ों रुपये का वर्दी घोटाला, विदेशों से आये दान के करोड़ों रुपये की रकम का घोटाला, कमेटी की जमीनों को खुर्द-बुर्द किया गया, लाखों रुपये का तेल घोटाला, कच्ची पर्चियों के साथ गोलक में से करोड़ों रुपये निकाले, कबुतरबाजी का करोड़ों रुपये का घोटाला, कमेटी के पैसों के साथ चहेतों को विदेशों की सैर करवायी, तरपालों की खरीद का घोटाला, एक वैब चैनल के नाम से साठ लाख रुपये का गबन, अपने पी.ए द्वारा कैशीयर से अस्सी लाख रुपये के करीब बिना किसी बिल के लिए गए और बहुत सारे घोटाले गुरु की गोलक लूट कर किए गये। उन्होंने कहा कि अभी तो मुकद्मे शुरु हुए हैं जब दिल्ली कमेटी के प्रधान रह चुके जी.के जेल जायेंगे तो कौम क्या महसूस करेगी।
अकाली नेताओं ने कहा कि करोड़ों रुपये गुरु की गोलक लुटने वाले व्यक्तियों की चिट्ठीयां संगत को गुमराह नहीं कर सकती। उन्होंने कहा कि जी.के को यह चिट्ठीयां भी कौम को लिखनी चाहिए कि जो करोड़ों रुपये गुरु की गोलक से लूटे हैं वह कहां गए। कोर कमेटी ने जी.के को सलाह देते हुए कहा कि गुरु के फटकारे हुए व्यक्ति को कहीं जगह नहीं मिलती इसलिये उनको अपनी भूल बखशानी चाहिए और गुरु का पैसा वापिस करना चाहिए। जथेदार हित व कोर कमेटी मैंबरों ने कहा कि गुरु बखशनहार है गुरु साहिब ने सज्जन ठग और कौडे राख्क्ष को भी बखश दिया था इसलिये जी.के को गुरु से भगौड़ा नहीं होना चाहिए।

No comments:

Post a Comment