चंडीगढ़, 10 अक्तूबर:
पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने स्कूल के हैड मास्टर और स्कूल की प्रबंधक कमेटी के प्रधान के खि़लाफ़ अपने पद का दुरुपयोग करते हुए सरकारी फंडों में हेरा-फेरी करने का मामला दर्ज किया है।


इस संबंधी जानकारी देते हुए विजीलैंस ब्यूरो के एक सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि हैड मास्टर संदीप कुमार छाबड़ा और नेशनल मॉडल मिडल स्कूल, पट्टी, जि़ला तरन तारन की प्रबंधक कमेटी की प्रधान वीना कुमारी ने फज़ऱ्ी दस्तावेज़ों के आधार पर स्कूल छोड़ चुके अध्यापकों के नाम पर फर्जी बैंक खाते खुलवाए हुए थे।
उन्होंने आगे बताया कि जांच के दौरान यह सामने आया है कि संदीप कुमार छाबड़ा ग़ैर कानूनी ढंग से कमाए इन पैसों को चैकों के ज़रिये अपने बैंक खाते में तबदील करता था। प्रवक्ता ने आगे बताया कि जांच अधिकारी कम प्रिंसिपल हरभगवंत सिंह, जो कि डी.आई.ई.टी. (डाइट) वेरका, अमृतसर में तैनात हैं, ने इस स्कूल की जांच की और जांच के दौरान स्कूल स्टाफ को वेतन देने और निकलवाने सम्बन्धी कई कमियां पाईं गई। प्रवक्तो ने बताया कि पंजाब शिक्षा विभाग से प्राप्त जांच रिपोर्ट के आधार पर विजीलैंस ब्यूरो ने मुलजि़म हैड मास्टर संदीप कुमार छाबड़ा और स्कूल प्रबंधक कमेटी की प्रधान वीना कुमारी समेत अलग-अलग समय पर इस स्कूल में तैनात रहे प्रिंसिपल और पूर्व सदस्यों के अलावा केंद्रीय सहकारी बैंक, तरन तारन के कर्मचारियों के खि़लाफ़ मामला दर्ज किया है।
उन्होंने बताया कि सरकारी फंडों में हेरा-फेरी करने के दोषों के अधीन विजीलैंस ब्यूरो के थाना अमृतसर में धारा 409, 420, 465, 467, 468, 471, आई.पी.सी. की धारा 120-बी और पी.सी. एक्ट 1988 की धारा 13 (1) ए के अधीन मामला दर्ज किया गया है और अगली जांच कार्यवाही अधीन है।

Post a Comment

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.